महोबा- बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाने की मांग को लेकर राज्य में शुरू हुआ ‘हस्ताक्षर अभियान’

0

महोबा: पृथक बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर अब शहरी क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में भी मुखर देखने को मिल रहा है. कुछ समय पहले इस राज्य में हस्ताक्षर अभियान शुरू किया गया था. यह हस्ताक्षर अभियान पहले सिर्फ शहरी क्षेत्र में शुरू हुआ था, अब यह अभियान चरखारी, कुलपहाड़, कबरई जैसे कस्बों से आगे बढ़ते हुए जिले के सौ से ज्यादा गांव तक पहुंच गया है.

बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाने को लेकर ग्राम प्रधान ने भी आंदोलन का खुलकर किया समर्थन

बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाने को लेकर ग्राम प्रधान भी आंदोलन का खुलकर समर्थन कर रहें है. बुधवार को राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन ने नारेबाजी करते हुए प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा है. पृथक बुंदेलखंड की मांग को लेकर आल्हा चौक पर पिछले 42 दिन से लगातार अनशन पर बैठे बुंदली समाज के संयोजक तारा पाटकर और जिला अभिवक्ता समिति के पूर्व अध्यक्ष सुखनंदन यादव ने बताया कि हमें यह बिलकुल भी उम्मीद नहीं थी कि ग्रामीण ‘हस्ताक्षर अभियान’ को लेकर अपनी रूचि दिखाएंगे.

यह भी पढ़ें: बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाए जाने को लेकर भाजपा के पूर्व सांसद ने अनशनकारियों का किया समर्थन

10 हजार से भी ज्यादा लोगों ने अलग राज्य की मांग को लेकर अपना लिखित समर्थन दिया

बता दें कि जिले के अब तक विभिन्न कस्बों के अलावा अनशन स्थल में अब तक सौ से अधिक गांवों के लोगों अपनी उपस्थिति दर्ज करावा चुके है. लोगों हस्ताक्षर अभियान का फॉर्म अपने साथ लेकर जाते है और अपने गांव से लोगों के नाम, पता, मोबाइल नंबर और दस्तखत करवाकर वापिस जमा करा देते है. अभी तक 10 हजार से भी ज्यादा लोगों ने अलग राज्य की मांग को लेकर अपना लिखित समर्थन दे चुके है. इस रुझान को देखकर गांव के प्रधान भी उनके समर्थन में आए है.

वहीं अखिल भारतीय प्रबुद्ध यादव संगम ने भी पीएम के नाम एक ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − thirteen =