क्या सरसों का तेल सेहत और फेफड़ों के लिए हानिकारक होता है।

0

तेल हमेशा से ही इंसानों के लिए किसी दवाई से कम नहीं है। दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में कईं प्रकार के तेल पाए जाते हैं। कुछ तेलों का सेवन खाने के रुप में किया जाता है तो बाकियों का इस्तेमाल शरीर या बालों के लिए किया जाता हैं। लेकिन क्या आपको पता है की सरसों का तेल सेहत और फेफड़ों के लिए कितना असरदार होता हैं।

पहले हम आपको बता दे की सरसों का तेल सेहत और फेफडे दोनों के लिए हानिकारक नहीं होता हैं। आज तक किसी भी शोध में यह बात साबित नहीं हो पाई है की सरसों के तेल से किसी को कोई भी परेशानी हुई हो, न हीं किसी शौध में यह बात साबित हो पाई है की सरसों के तेल से लोगों को फेफडों को शिकायत हुई हों।

यह भी पढ़ें : चुम्बन के स्वास्थ्य लाभ जिनके बारे में आप नें सोचा भी नहीं होगा

स्किन के लिए रहता है फायदेमंद

अगर आप सरसों के तेल की मालिश करते है तो यह आपकी स्किन को हमेशा तंदुरस्त और जवान बनाए रखता हैं। आप सरसों के तेल से अपने शरीर की मालिश करके शरीर की मांसपेशियों को मजबूत बनाए रखते हैं।

काले लंबे घने बालों के लिए

सरसों का तेल काले लंबे घने बालों के लिए वरदान माना जाता हैं। लोग सरसों के तेल से बलों की मालिश करके उन्हें मजबूत करता है, घना बनाता हैं, और बालों को सुंदर और काला भी बनाता हैं।

दातों के लिए फायदेमंद

आप यह जानकर हैरान हो जांएगे की सरसों का तेल आपके दातों के लिए फायदेमंद होता है। आप सरसों के तेल में चुटकी भर नमक मिलाकर उससे अपने दातों की मालिश कर सकते हैं। जिससे आपके दांतों की गंदगी और धाग-धब्बे साफ़ हो जाते हैं।

मांसपेशियों के दर्द को कम करता है

सरसों के तेल को हल्का गर्म करके शरीर पर मालिश करने से आपको चमत्कारी परिणाम मिल सकते हैं। जिन लोगों को शरीर के हिस्सों पर दर्द रहता है वह सरसों के तेल को हल्का गर्म करके उस दर्द भरे हिस्से पर मालिश करके दर्द से राहत पा सकते हैं।

कान के दर्द में फायदेमंद

अगर आप कान के दर्द से परेशान है तो आपको सरसों के तेल का सेवन करना चाहिए। आप सरसों के तेल को गैस या चूल्हें पर हल्का सा गर्म करके उसे अपने कान में डाल सकते हैं। आपको इससे चमत्कारी नतीजे देखने को मिलेंगे। बस ध्यान रखे की तेल ज्यादा गर्म न हो इससे आपको अंदरुनी समस्या पैदा हो सकती हैं।

होठों को मुलायम रखने के लिए

अगर आप फटे होठों और रुखेपन से परेशान है तो आप सरसों की कुछ बूंदों को रात में सोते समय  अपनी नाभि में लगाकर सो सकते है। सुबह उठने पर आपको अपने फटे होंठ और रुखी स्किन में बदलाव नज़र आएगा।

अगर बात करें सरसों के तेल के नुकसान की तो अगर आपको कोई भी स्किन रोग है तो आपको सरसों का तेल इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इससे अपको स्किन की ज्यादा परेशानी होगी।

सरसों के तेल का अत्यधिक सेवन से राइनाइटिस हो सकता हैं। जिससे बल्गम की झिल्ली में सूजन आ सकती हैं। खांसना, छीकना, भरी हुई नाक, नाक से पानी बहना, आदि इसके लक्षण होते हैं।

गर्भवती महिलाओं को सरसों के तेले के इस्तेमाल से बचना चाहिए क्योंकि इसमें रसायनिक प्रर्दाध होते हैं। जो महिलाओं के पेट में पल रहें बच्चे के लिए हानिकारक होते हैं।

यह भी पढ़ें : सेब खाने के वो फायदे जो रखेंगे डॉक्टर को हमेशा आपसे दूर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 + 3 =