कलर्स के शो ‘राम सिया के लव कुश’ पर प्रतिबन्ध, चैनल वाले पहुंचे कोर्ट

0
Ram Siya Ke Luv Kush
Ram Siya Ke Luv Kush

पंजाब सरकार द्वारा टीवी सीरीज राम सिया के लव कुश के केबल टेलीकास्ट पर प्रतिबंध लगाने के आदेश के दो दिन बाद पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने प्रतिबंध आदेश पर रोक लगाने से इनकार कर दिया, लेकिन कलर्स टीवी द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया कलर्स टीवी ने उन सीन को हटाने की पेशकश की है जो कथित तौर पर ऋषि वाल्मीकि को आपत्तिजनक रूप में दिखाते हैं।

कलर्स टीवी द्वारा दायर याचिका की सुनवाई के दौरान उच्च न्यायालय की एकल पीठ ने अतिरिक्त महाधिवक्ता रमीजा हकीम से इस मामले में निर्देश लेने और निर्माताओं द्वारा विचाराधीन दृश्यों को हटाने के लिए की गई पेशकश पर पूछा। सरकारी वकील ने प्रस्तुत किया कि इस प्रस्ताव पर राज्य सरकार द्वारा विचार किया जाएगा, जिसकी प्रतिक्रिया सुनवाई की अगली तारीख को प्रस्तुत की जाएगी।

Install Kare Flipcart App aur Paaye Rs.500 PayTm Par Turant

जिला मजिस्ट्रेट के रूप में विभिन्न जिला आयुक्तों ने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के निर्देश के बाद शो के प्रसारण पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है। पंजाब सरकार की ओर से मामले पर बहस करते हुए अतिरिक्त महाधिवक्ता रमीजा हकीम ने कहा कि धारावाहिक पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय इस आधार पर लिया गया था कि “वाल्मीकि जी को नकारात्मक रूप में चित्रित किया गया था, जिससे राज्य में वाल्मीकि समुदाय की धार्मिक और अन्य भावनाओं को ठेस पहुंची थी।”

अधिवक्ता अभिनव सूद के माध्यम से दायर याचिका में कलर्स टीवी ने कहा कि धारावाहिक पर जो भी प्रतिबंध लगाए गए थे वह प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों का पालन किए बिना और केबल ऑपरेटर्स विनियमन अधिनियम की धारा 19 का पालन किए बिना पारित किया गया था। चैनल ने धारावाहिक के निर्माताओं की ओर से सचिव गृह के साथ एक बातचीत करने के लिए विवादास्पद दृश्यों पर चर्चा करने का प्रस्ताव भी रखा।

यह भी पढ़ें: ‘छिछोरे’ फिल्म को दर्शकों ने बताया…..

टीवी धारावाहिक ‘राम सिया के लव कुश’ के खिलाफ पंजाब में वाल्मीकि समुदाय ने विरोध प्रदर्शन किया है। पंजाब सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि उनकी भावनाओं का समर्थन करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र को पत्र लिखकर धारावाहिक के प्रसारण को रोकने का निर्देश दिया था।