बिहार: कांग्रेस जिलाध्यक्षों ने तेजस्वी, उपेंद्र कुशवाहा पर उठाए सवाल, दी अकेले चुनाव लड़ने की सलाह

0
congress meeting

दरअसल, बिहार में लोकसभा चुनाव में महागठबंधन को मिली करारी शिकस्त पर लगातार मंथन जारी है। इसी सिलसिले में हार के कारणों का गहनता से पता लगाने के लिए कांग्रेस प्रदेश कमेटी की बैठक हुई। इस बैठक में सहयोगी दलों के नेताओं पर जमकर गुस्सा निकाला गया और कांग्रेस ज़िलाध्यक्षों ने 2020 में बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को अपने दम पर लड़ने की सलाह दी।

कांग्रेस प्रदेश की तरफ़ से हार पर विचार करने के मक़सद से बुलाई गई बैठक में मंथन हुआ या नहीं हुआ ये तो नहीं पता, लेकिन इस बैठक में महागठबंधन के मुख्य नेताओं तेजस्वी यादव, उपेन्द्र कुशवाहा सन ऑफ मल्लाह मुकेश साहनी पर सवाल उठाए गए। ज़िलाध्यक्षों ने चुनाव में महागठबंधन के सीट बंटवारे पर सवाल उठाते हुए कहा कि दरभंगा, मधुबनी, मुज़फ्फपुर सीट कांग्रेस कांग्रेस की परंपरागत सीट रही है। इस जीत से अगर टिकट दिया जाता तो जीत ज़रूर मिलती।

Loading...

वहीं, राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के मसले पर सभी ज़िलाध्यक्षों ने एक स्वर में राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से इस्तीफ़ा वापस लेने का प्रस्ताव पास किया। प्रदेश कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष श्याम सुंदर सिंह धीरज ने प्रस्ताव में जोड़ा कि राहुल गांधी के अलावा कोई दूसरा राष्ट्रीय अध्यक्ष कांग्रेसजनों को स्वीकार नहीं होगा। ज़िलाध्यक्षों ने ये भी कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव कांग्रेस पार्टी अपने दम पर लड़े। बता दें कि अगले साल विधानसभा के चुनाव होंगे।

ये भी पढ़ें : नीतीश कुमार का बड़ा फैसला : बिहार के बाहर एनडीए का हिस्सा नही रहेगी जेडीयू