सवाल 113 – लोहे कि धातु से चोट लगने पर टिटनेस का इंजेक्‍शन लगवाना क्यों जरूरी है

0
healthnews
सवाल 113 - लोहे कि धातु से चोट लगने पर टिटनेस का इंजेक्‍शन लगवाना क्यों जरूरी है

लोहे या किसी धातु से चोट लगने के बाद टिटनेस का इंजेक्शन लगवाना जरूरी होता है. जब भी आपको कोई चोट लगती है तो आपके घरवाले हो या फिर कोई और सभी यहीं कहते है कि टिटनेस का इंजेक्शन लगवा लो. अगर हम चोट लगने पर इस इंजेक्‍शन को नहीं लगाते है.तो यह हमारे लिए बहुत ही ज्यादा खतरनाक साबित होता है.

लोहे या किसी भी घातु से चोट लगने पर हर बार टिटनेस का इंजेक्‍शन लगवाना बहुत ही जरूरी है. टिटनेस से जुड़ी कुछ बाते आपको बताने जा रहे है जो इस प्रकार है.

टिटनेस एक प्रकार का जीवाणु संक्रमण है, जोकी आपके शरीर के लिए घातक साबित हो सकती है. यही नहीं इसके लगभग 30 प्रतिशत मामले है. जो गंभीर रूप धारण करते है. इसे ‘लॉकजॉ’ भी कहा जाता है. क्‍योंकि यह शरीर में जबड़े को बंद कर देता है जिसकी वजह से मुंह खुलना अंसभव हो जाता है. इसके जीवाणु मिट्टी, खाद या धूल में पाएं जाते हैं.

बता दें कि अगर शरीर में कहीं भी लोहे से चोट या घाव होने पर यह जीवाणु वहां चिपक जाते हैं और शरीर में संक्रमण पैदा कर देते है. ये खासकर उस जगह पनपते है, जहां पर ज्यादा गंदगी पैदा होती है.

इतना ही नहीं अगर जानवर के काटने वह जलने या गंदा इंजेक्शन लगाने से भी टिटनेस होने का हमेशा डर लगा रहता है. लेकिन यह रोग संक्रामक नहीं होता है. इसलिए चिंता न करें अगर किसी को ऐसी कोई समस्या होती है. तो इस बात की चिंता न करें. इससे बचने के लिए टीकाकरण अवश्य करवाएं. इससे बच्चे के शरीर में टिटनेस के जीवाणु के लिए प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाएगी.

अगर आपको गहरी चोट लगती है या फिर गहरा घाव हो जाता है तो 5 साल में ही टिटनेस का इंजेक्‍शन लगवा लें. इससे संक्रमण होने की संभावना कम हो जाती है. अगर आपको बचपन में टिटनेस का टीकाकरण नहीं लगाया गया हो तो अब आप टिटनेस का टीकाकरण करवा लें. यह टीकाकरण 3 चरणों में होता है.

पहले टीके को देने के बाद, दूसरा टीका 4 सप्‍ताह बाद दिया जाता है और तीसरा टीका, 6 से 12 सप्‍ताह बाद दिया जाता है. इस इंजेक्‍शन को लगवाने के बाद आपको थोड़ा सा बुखार आ सकता है. जहां आपको इंजेक्शन लगाया गया हो वहां लालिमा हो सकती है. कई बार उस जगह पर सूजन भी आ जाती है. यहीं नहीं गर्भवती महिलाओं के लिए टिटनेस की वैक्‍सीन सुरक्षित होती है.

यह भी पढ़ें : सवाल 112 : जया बच्चन और अमिताभ बच्चन को क्यों करनी पड़ी 24 घंटे के अंदर शादी ?

अगर आपको कोई बिमारी हो या फिर कोई समस्या हो तो कृपया अपने डॉक्टर से सलाह ले और बिना डॉक्टर के इस इंजेक्‍शन को न लगाएं.