अमेरिकी सांसद का नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर भारत पर वार

0
us
अमेरिकी सांसद का नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर भारत पर वार

नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) के बुधवार को राज्यसभा में पास होने के बाद भारत जहां एक और जश्न मना रहा है, तो पूर्वोत्तर राज्यों में इस बिल का जबरदस्त विरोध किया जा रहा है. वहां आगजनी, सड़कों पर प्रदर्शन, मौत और लोगों के घायल होने की खबरें लगातार सुर्खियों में बनी हुई हैं.

इस बीच अमेरिकी सांसद में आंद्रे कार्सन ने बिल को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है. कार्सन ने कहा कि यह बिल मुसलमानों को दूसरे दर्जे का नागरिक बनाने की कोशिश है. आंद्रे कार्सन ने कहा कि सांसदों के क्रूर कैब को पारित करने के साथ ही आज हमने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक और घातक कदम देखा है.

यह कदम भारत में अल्पसंख्यक मुसलमानों को दूसरे दर्जे का नागरिक बनाने का एक और प्रभावी प्रयास है.’ आंद्रे कार्सन ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने पर भी टिप्पणी की है. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने पर चिंता जाहिर किया था. भारतीय प्रधानमंत्री ने जब पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने की घोषणा की थी, तो मैंने तब भी कश्मीर के भविष्य पर उसके असर को लेकर गंभीर चिंता दिखाई थी.

नागरिकता संशोधन विधेयक की बात करें, तो इसमें अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर, 2014 तक भारत आए गैर-मुस्लिम शरणार्थियों- हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है.

यह भी पढ़ें : तीन तलाक कानून, आर्टिकल-370 और CAB के बाद क्या होगा BJP का अगला निशाना

फिलहाल राज्यसभा से पारित हो चुके इस बिल को अब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेजा जाएगा. जिसके बाद यह कानून बन जाएगा. इस बिल के खिलाफ गुरुवार को ‘इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग’ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करेगी. लीग ने बिल को असंवैधानिक करार देते हुए रद्द करने की मांग की है.