जानें थायराइड होने की मुख्य कारण

0
जानें थायराइड होने की मुख्य कारण

कई लोग थायराइड जैसी समस्या से जूझ रहे है. थायराइड पुरूषों के मुकाबले महिलाओं को ज्यादा होता है, जिससे महिलाओं को कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है. थायराइड एक तरह की ग्रंथि होती है जो गले में बिल्कुल सामने की ओर होती है. यह ग्रंथि आपके शरीर के मेटाबॉल्जिम को नियंत्रण करती है. यानी की जो भोजन हम खाते हैं, यह उसे उर्जा में बदलने का काम करती है. इसके अलावा यह आपके हृदय, मांसपेशियों, हड्डियों व कोलेस्ट्रोल को भी प्रभावित करती है.

बता दे कि थायराइड एक ऐसी बीमारी है, जो महिलाओं में बढ़ती उम्र के साथ-साथ देखने को मिलती है. थायराइड ग्लैंड में हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाने के वजह से यह समस्या होती है. थायराइड होने के कुछ ऐसे कारण है, जिनसे सावधानी बरतकर इस बीमारी से बचा जा सकता है.

यह भी पढ़ेें : भीषण गर्मी के मौसम में ये टिप्स अपनाने से मिल सकती है शरीर को राहत

महिलाओं में थायराइड के मुख्य कारण
घर हो या ऑफिस, महिलाएं अक्सर छोटी-छोटी बातों के लिए ज्यादा टेंशन और स्ट्रेस ले लेती हैं. जिसके वजह से थायराइड ग्रंथि पर बुरा असर पड़ता है और हार्मोन असंतुलित हो जाता है, जो थायराइड का कारण बनता है.


किसी भी दवाई के साइड इफेक्ट की वजह से भी महिलाओं को इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए अगर आप किसी भी प्रकार की कोई भी दवाई लेते है तो पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.


काम के चक्कर में महिलाएं अपने खान-पान पर ध्यान नही दे पाती है, जिसके कारण उनके शरीर में आयोडीन और दूसरे तत्व की कमी हो जाती है और शरीर को ठीक तरीके से प्रोटीन नही मिल पाता है, जो थायाराइड का कारण बन जाता है.


महिलाओं में थायराइड होने का एक कारण आनुवंशिक भी है. अगर आपके परिवार में किसी को थायराइड की शिकायत होती है तो उनसे आपको भी इसकी शिकायत हो सकती है, इसका सबसे ज्याद प्रभाव महिलाओं में देखने को मिलता है.


थायाराइड में महिलाओं को प्रैग्नेंसी के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है , प्रैग्नेंसी के दौरान गर्भवती महिलाओं को थायराइड होने की संभावना सबसे ज्यादा होती है. क्योंकि इस दौरान महिलाओं के शरीर में बहुत से हार्मोनल बदलाव आते है.


जरूरत से ज्यादा सोया उत्पाद का सेवन भी आपको थायराइड का शिकार बना सकता है. सोया प्रोटीन, कैप्सूल, और पाउडर का सेवन महिलाओं को थायराइड का शिकार बना देता है.


महिलाओं में रजोनिवृत्ति भी थायराइड का कारण है. क्योंकि रजोनिवृत्ति के समय महिलाओं के शरीर में कई हार्मोनल परिवर्तन होते है, जो कई बार थायराइड की वजह भी बनती है. रजोनिवृत्ति किसी भी महिला के जीवन में घटने वाली एक स्वभाविक घटना है. रजोनिवृत्ति का मतलब है कि डिम्बग्रन्थियों के कार्य में कमी के कारण मासिक धर्म का स्थायी रूप से रूक जाना. यह स्थिति डिम्ब ग्रंथियों द्वारा हार्मोनों – एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टोजन के उत्पादन में कमी आने का परिणाम होती है.


थायराइड सबसे ज्यादा प्रदूषण के कारण भी होता है, हवा में मौजूद बैक्टीरिया और कण मुंह में जाकर गले की ग्रंथि को नुकसान पहुंचाते हैं, जोकि थायराइड का कारण बनती है. सिर, गर्दन और चेस्ट की थैरेपी के कारण भी महिलाओं को थायराइड की समस्या हो सकती है. इसके अलावा टोंसिल्स, लिम्फ नोड्स, थाइमस ग्रंथि की समस्या या मुंहासे के लिए करवाया गया उपचार भी इस बीमारी की कारण बन सकता है.


डाइट के चक्कर में अक्सर महिलाएं अपने खान-पान में गड़बड़ी कर लेती हैं. मगर कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन और सोया सप्लीमेंट ज्यादा मात्रा में लेने से भी शरीर में थायराइड हार्मोन का बैलेंस बिगड़ जाता है.