भीषण गर्मी के मौसम में ये टिप्स अपनाने से मिल सकती है शरीर को राहत

0
भीषण गर्मी के मौसम में ये टिप्स अपनाने से मिल सकती है शरीर को राहत

ज्यादातर हिस्सों में भीषण गर्मी और लू से लोग काफी परेशान है. गर्मी के मौसम ने लोगों का जीना मुहाल किया हुआ है. कई शहरों मे तो तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है. जिसकी वजह से अब लोग बीमार पड़ने लगे हैं. भीषण गर्मी की वजह से अपने शरीर में व्यक्ति को ऐंठन, थकावट और हीट-स्ट्रोक सहित कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं को झेलना पड़ता हैं. गर्मी के मौसम में डॉक्टर भी लोगों को खूब पानी पीकर अपने शरीर को ‘हाइड्रेटेड’ रखने की सलाह देते हैं. आइए जानते हैं ऐसे कुछ खास टिप्स जिन्हें अपनाकर गर्मी के इस कहर से बचा जा सकते हैं.

यह भी पढ़ें : जानिये क्या है हीट वेव (लू) और इसके प्रकोप से बचने के उपाय


बचाओं के तरीके:
धूप में लंबे समय तक रहने से बचें. घर से निकलने से पहले छतरी का उपयोग कर ले. सुबह 10 बजे से लेकर शाम चार बजे तक के बीच धूप में जाने से बचें. ध्यान रहे गर्मी में पानी की जरूरत सर्दियों के मुकाबले 500 मिलीलीटर अधिक होती है. अगर आपको किसी भी कार्य के संबंध में बाहर निकलना पड़ता है तो अपने शरीर को पूरी तरह से ढककर बहार निकलें. कैप व सनग्लास और सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूर करे.


गर्मी के मौसम में ज्यादा से ज्यादा तरल पेय पदार्थ ही इस्तेमाल में लाये. इस मौसम में ठोस आहार का उपयोग करने से बचें. तरल पदार्थ में आप ठंडा पानी, नींबू शिकंजी, शरबत, कैरी का पना, फलों का रस, छाछ, लस्सी ज्यादा मात्रा में लें. अधिक चीनी वाले पेय-किसी भी पेय में 10 प्रतिशत से अधिक चीनी होने पर वो सॉफ्ट ड्रिंक बन जाता है और उससे बचना चाहिए.


गर्मियों में कोशिश करें कि हल्का, ताजा और जल्दी पचने वाला भोजन डाइट में शामिल करें. भूख से कम खाएं और ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं.


गर्मी के मौसम में खान पान के साथ व्यायाम पर भी ध्यान देने जरूरी है. ऐसे मौसम में आप हल्के व्यायाम, आसन और ध्यान जैसी योगा ज्यादातर इस्तेमाल कर सकते है.


हल्के रंग के कपड़े पहनें, आप गर्मी में खुद को कूल रखने के लिए हल्के रंग के कपड़ों का प्रयोग कर सकते है, हल्के रंग आंखो को ठंडक पहुंचाता हैं. इस मौसम में पहनने के लिए कॉटन, शिफॉन, जॉर्जेट, क्रेप जैसे पतले और हलके कपड़ों का चुनाव करें.


गर्मियों में पर्याप्त मात्रा में नींद लेने की कोशिश करें. नींद पूरी न होने पर थकान बनी रहती है, जो अनावश्यक चिड़चिड़ाहट को जन्म देती है.