एक बार फिर कांग्रेस सांसद शशि थरूर बने विवाद का पात्र

0
shashi tharoor
Shashi-Tharoor

कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ट्विटर पर खास सक्रिय रहते हैं. शशि थरूर द्वारा किए गए ट्वीट अक्सर विवादों में बने रहते है, साथ ही कई सुर्खियां भी बटोरते है. कुछ ऐसा ही हुआ है इस बार भी, लेकिन ट्विट में इस बार उनसे चूक हो गई है.

बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने ट्विटर पर नेहरू और इंदिरा गांधी की एक फोटो शेयर करते हुए लिखा है कि ‘1954 में अमेरिका में नेहरू और इंदिरा गांधी के समय में भी अमेरिकी लोगो का सैलाब नजर आया था और यह सब पीआर कैंपेन, एनआरआई भीड़ प्रबंधन, और भारी भरकम मीडिया प्रचार के बिना ही हुआ था. ‘ थरूर का कहना है कि विदेशों में भारतीय प्रधानमंत्री की लोकप्रयिता कोई नई चीज नहीं है.

थरूर ने साथ ही ये भी कहा कि जब नरेंद्र मोदी को सम्मानित किया जाता है, तो भारतीय प्रधानमंत्री को सम्मानित किया जाता है, यह सम्मान भारत के लिए है.’ शशि थरूर ने विपक्ष पर निशाना का एक मौका दे दिया है. यहीं नही अगर उन्हें किसी भी तस्वीर को शेयर करने से पहले उसके सारे तथ्यों के बारें में जानकारी ले लेनी चाहिए. किसी ने भी उनसे ऐसे गलती की उम्मीद नहीं की होगी.

जहाँ देश गर्व महसूस कर रहा है वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश का प्रतिनिध्व कर रहे है विदेश में भी भारत का मान सामान बढ़ा रहे है वहां पर शशि थरूर के ऐसे ट्वीट की जरूरत नहीं ही नहीं थी. इतना ही नहीं ऐसे किसी दो प्रधानमंत्री की तुलना करना कही से भी सही नहीं है ऐसा नहीं है कि जवाहर लाल नेहरू ने अपने समय में कोई कार्य नहीं किया है. नेहरू ने अपने समयमें देश को गर्व महसूस करने के बहुत से अवसर दिए है.

यह भी पढ़ें: न्याय की रफ़्तार: 45 साल पहले हुआ था मर्डर, अब आया फैसला

अब प्रधानमंत्री मोदी भी विश्व मंच पर भारत की उपस्तिथि दर्ज करने के लिए जद्दोजहद में जुट गए है. कम से कम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हर पार्टी को एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए इससे एकजूटता का सन्देश जाता है और यह देश की उपलब्धि के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे है.