यो-यो टेस्ट में सरदार सिंह ने विराट कोहली को पछाड़ा, फिटनेस को लेकर हॉकी टीम से हुए थे बाहर

0

फिटनेस को लेकर आज कल खिलाड़ी बेहद ही मुस्तैद है. प्रॉपर डाइट से लेकर कड़ी मेहनत तक खिलाड़ी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते है. ज़ाहिर है फिटनेस खिलाड़ियो के खेल में और निखार लाती है. जिससे वह और भी अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब होते है.

पिछले साल हॉकी टीम से हुए थे ड्राप

खराब फिटनेस की वजह से इंडियन हॉकी टीम के पूर्व कप्तान को पिछले साल टीम से बहार कर दिया गया था. लगभग 10 से लगातार भारतीय हॉकी टीम में खेल रहे सरदार सिंह को उनकी खराब फिटनेस का हवाला देते हुए पिछले साल टीम से बहार कर दिया गया था. हालाँकि उन्होंने चुनौती क्यों स्वीकार किया और जबरदस्त कम बेक की है.

विराट कोहली को किया पीछे

सरदार सिंह ने यो-यो टेस्ट में कोहली के स्कोर को पीछे छोड़ दिया. सरदार ने यो-यो टेस्ट में 21.4 अंक हासिल किए जो क्रिकेट टीम इंडिया में जगह बनाने के तय मानक 16.3 अंक से काफी अधिक है. सरदार सिंह के  यो-यो टेस्‍ट में इस स्‍कोर से टीम इंडिया कप्‍तान विराट कोहली काफी पीछे रह गए हैं. कोहली के अभी यो यो टेस्ट में 19 अंक हैं जो कि काफी बढ़िया स्कोर है लेकिन सरदार उनसे भी आगे निकल गए हैं.

फिटनेस पर जबरदस्त सुधार किया, छोड़ने पड़े अपने आलू के परांठे

सरदार ने अपने स्टेमिना और गति में जबरदस्त सुधार किया और फिटनेस पर कड़ी मेहनत करते हुए वे हॉकी से भी दूर रहे. उन्होंने अपने  पैर, कोहनियां और सीने की मजबूती पर खास ध्यान दिया. इस दौरान सरदार ने ज्यादा पोषण वाला खाना ही खाया. अब उन्हें जब भी अपने पसंदीदा आलू क के पराठा खाने की इच्छा होती है तो उसमें वे आलू की बजाय ब्रोकली डालकर खाते हैं.

क्या होता है यो-यो टेस्ट ?

योयो टेस्ट में एक समतल मैदान में 20 मीटर की दूरी पर दो कोण रखे जाते है. इसके बीच खिलाडी को दौड़ना पड़ता है इसमें एक बीप बजती है और खिलाडी को एक छोर से दौड़ना शुरू करना होता है और दूसरी बीप बजने से पहले खिलाडी को दुसरे छोर पर पहुँचना पड़ता है. इसके बाद खिलाडी को तीसरी बीप बजने के साथ ही उसे फिर से पलट कर पहले छोर पर आना होता है इसे अंग्रेजी में शटलिंग कहा जाता है. इसके अलावा इसमें और भी तरीके की दौड़ शामिल होती है. जिससे यो-यो टेस्ट किया जाता है. यह टेस्ट सॉफ्टवेर द्वारा चेक किया जाता है.