महाराष्ट्र सरकार ने आदित्य ठाकरे की सुरक्षा बढ़ाकर सचिन की सुरक्षा घटाई

376

एक अधिकारी के अनुसार खबर मिली है कि महाराष्ट्र सरकार ने सचिन तेंदुलकर की सुरक्षा को घटा दिया है और मुख्यमंत्री के बेटे आदित्य ठाकरे की सुरक्षा को बढ़ाकर ‘जेड’ श्रेणी में अपग्रेड कर दिया है।

बुधवार को एक अधिकारी ने कहा कि सचिन तेंदुलकर की सुरक्षा कवर को डाउनग्रेड दिया गया है, जबकि शिवसेना के विधायक आदित्य ठाकरे को ‘जेड’ श्रेणी में अपग्रेड किया गया है।

अधिकारी के अनुसार महाराष्ट्र सरकार की समिति द्वारा उन्हें खतरे की धारणा के बारे में समीक्षा के बाद सुरक्षा कवर में बदलाव किए गया है। अधिकारी ने कहा कि तेंदुलकर और आदित्य ठाकरे के अलावा, हाल ही में एक बैठक में 90 से अधिक प्रमुख नागरिकों के सुरक्षा कवर की समीक्षा की गई।

उन्होंने कहा कि भारत रत्न से सम्मानित तेंदुलकर को अब तक X श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई थी, जिसे वापस ले लिया गया है।

अधिकारी ने कहा कि X श्रेणी के तहत, एक पुलिसकर्मी 46 वर्षीय क्रिकेटर की चौबीसों घंटे सुरक्षा करता था। हालांकि, राज्यसभा के पूर्व सदस्य सचिन को उनके घर से बाहर कदम रखते ही पुलिस एस्कॉर्ट दिया जाएगा।

अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे को ‘जेड’ सुरक्षा कवर दिया गया है।

इससे पहले सेंट्रल मुंबई के वर्ली के 29 वर्षीय विधायक आदित्य के पास Y+ सुरक्षा कवर था।

ceb23a80 26e8 11ea 822c 9a9bb451da23 -

अधिकारी के अनुसार राकांपा अध्यक्ष शरद पवार जेड + सुरक्षा का आनंद लेते रहेंगे, जबकि उनके भतीजे और पार्टी नेता अजीत पवार जेड श्रेणी सुरक्षा कवर बरकरार रखेंगे।

अधिकारी ने कहा कि सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे की सुरक्षा को Z श्रेणी से Y + तक बढ़ाया गया है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल राम नाइक जेड + सुरक्षा को X डाउनग्रेड कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के दो पूर्व मंत्रियों एकनाथ खडसे और राम शिंदे की सुरक्षा कवर को भी डाउनग्रेड किया गया है।

यह भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे ने मानी गलती, BJP पर मढ़ा दोष

1993 के मुंबई बम धमाकों जैसे कई हाई-प्रोफाइल मामलों में अभियोजन पक्ष का प्रतिनिधित्व करने वाले जाने-माने वकील उज्जवल निकम की सुरक्षा भी डाउनग्रेड कर दी गई है।

अधिकारी ने कहा कि निकम, जो पहले जेड + सुरक्षा का आनंद लेते थे, अब उन्हें एस्कॉर्ट के साथ वाई श्रेणी में रखा गया है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के कई मंत्रियों को आने वाले दिनों में सुरक्षा में गिरावट देखने को मिल सकती है।