CAA के बाद पहली बार असम पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी

0
Modi ji
Modi ji

आज भारत के प्रधानमंत्री मोदी जी असम राज्य के कोकराझार जिले में संबोधित करेगें .यहां आपको ये भी बताना भी जानना जरूरी है कि नागरिकता संशोधन एक्ट (सीएए) कानून के विरोध की आग की शुरूआत असम राज्य से ही हुई थी. नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के बाद प्रधानमंत्री जी का ये पहला पूर्वोत्तर भारत का पहला दौरा है. दिसंबर में जापानी प्रधानमंत्री के साथ PM मोदी गुवाहाटी में शिखर सम्मेलन करने वाले थे, लेकिन CAA विरोधी आंदोलनों की वजह से पीएम का दौरा रद्द हो गया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत के लिए कोकराझार तैयार है. पूरे शहर में मानो उत्सव का माहौल है. बीती रात असम का ये शहर लाखों दीये से ऐसे रौशन हुआ, मानो दीवाली आ गई हो. पीएम मोदी बोडो समझौते की खुशी में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करने कोकराझार आ रहे हैं.

यह भी पढ़ें: CAA और NRC का कड़वा सच.

क्या है बोडो समझौता ?
बोडो के चार अलगाववादी गुटों समेत कुल नौ संगठनों ने असम और केंद्र सरकार के साथ समझौता कर अलग राज्य की मांग छोड़ दी. यहां हम आपको बताना जरूरी समझते हैं कि उन्होंनें कभी भारत से अलग होने की मांग नहीं की. सिर्फ अलग राज्य की मांग की थी. इस समझौते के तहत 1500 से अधिक हथियारधारी सदस्य हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में शामिल हो जाएगा. समझौते के अनुसार भारत सरकार और राज्य सरकार विशेष विकास पैकेज द्वारा 1500 करोड़ रु असम में बोडो क्षेत्रों के विकास के लिए विशिष्ट परियोजनाएं शुरू करेगी और समझौते से संविधान में छठी अनुसूची के अनुच्छेद 14 के तहत एक आयोग का गठन करने का प्रस्ताव है. जो बहुसंख्यक गैर-आदिवासी आबादी कि बोडोलैंड टेरिटोरियल एरिया डिस्ट्रिक्ट (BTAD) से सटे गांवों को शामिल करने और बहुसंख्यक आदिवासी आबादी की जांच करने का काम करेगा.