नवाबी शौक ने ही बना डाला अपनों का कातिल

0
death
नवाबी शौक ने ही बना डाला अपनों का कातिल

अच्छा दिखने और दिखाने की चाह किसे नहीं होती है. लोग अपने को अच्छा दिखाने के लिए महंगे कपड़े पहनते है और अपने शौक को पूरा करने के लिए कोई अपराध जैसी खौफनाक घटना को भी अंजाम दे डालते है. दोस्तों पर रौब जमाने का जुनून. बस यही वजह थी कि उस नाबालिग छात्र ने मौत का एसा खेल खेला कि सुनने वालों के रोंगटे खड़े हो गए. लड़के इसी चाहत ने उसे कातिल बना दिया.

उसने जिन लोगों का कत्ल किया वो और कोई नहीं थे. बल्कि उसके माता-पिता और भाई थे. ट्रिपल मर्डर की इस वारदात को अंजाम देने के बाद उस नौजवान कातिल ने पांच हजार रुपये का सूट खरीदा और अगले दिन स्कूल की फेयरवेल पार्टी में शामिल हुआ. घटना के बाद 4 दिन तक वो अपने घरवालों की लाश के साथ घर में ही था. लेकिन लाशों के सड़ने की बदबू ने इस कत्ल का राज खुल गया.

बता दें कि ट्रिपल मर्डल की यह खौफनाक वारदात मध्य प्रदेश के सागर जिले की है. नाबालिग आरोपी 12 वीं का छात्र है. वो 24 जनवरी का दिन था. उस दिन उसने मां से 1500 रुपये मांगे तो मां ने इनकार कर द‍िया. इस बात पर उसे इतना गुस्सा आया कि उसने बिना कुछ सोचे अपनी मां का गला घोंटकर उसे मार डाला.

आरोपी ने अपने ही पिता की 12 बोर वाली लाइसेंसी बन्दूक लेकर उनके सामने आ गया. उसने टीवी की आवाज को तेज कर दिया. फिर अपने पिता के उपर फायर कर दिया, उनको दो गोली लगी. कुछ पल में ही उन्होंने दम तोड़ दिया. इसके बाद आरोपी छात्र अपने छोटे भाई आदर्श को कोचिंग से लेकर आया. फिर उसने उसे अपनी करतूत बताई. छोटा भाई ये सब सुनकर रोने लगा तो उसने अपने छोटे भाई को भी नहीं बख्शा और उसकी गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी.

28 जनवरी को एक पड़ोसी ने मकरोनिया थाने को सूचना देते हुए बताया क‍ि घर का ताला बंद है. और वहां से बदबू आ रही है. सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर जा पहुंची. पुलिस ने घर का ताला तोड़कर अंदर दाखिल हुई तो कमरे का मंजर देखकर सब हैरान रह गए. सामने तीन लाशें मौजूद थी. मौका-ए-वारदात से पुलिस को एक नोट भी बरामद हुआ. जिसमें लिखा था क‍ि जो किया, उसकी सजा सिर्फ मौत है.

यह भी पढ़ें : फर्रूखाबाद केस : आरोपी की पत्नी को लोगों ने पीट-पीटकर मार डाला

पुलिस ने घर की जांच पड़ताल की और तीनों शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए. पुलिस को पता चल गया था कि घर का एक सदस्य गायब है. यानी घर का बड़ा बेटा. पुलिस उसे तलाश कर रही थी. तब तक पुलिस को हत्यारे के बारे में जानकारी नहीं थी. लेकिन जब वह लौटकर आया तो किसी शख्स ने इस बारे में थाने को सूचना दी. पुलिस ने किशोर को हिरासत में ले लिया. जब उससे पूछताछ की गई तो सारा मामला खुलकर सामने आ गया.