भिखारी की मौत के बाद पुलिस ने झोपड़ी में देखा कुछ ऐसा कि…

0
Begger News
Begger News

केवल मुम्बई ही नहीं बल्कि देश के हर दूसरे कोने में भिखारी मिल ही जाते है और छोटे बच्चे से लेकर बड़ें तक भीख मांगते है. कोई इस बात का अंदाजा भी नहीं लगा सकता है कि इन भिखारीयों के पास कितना पैसा होगा और ये लोग किसके लिए काम करते है क्योंकि हमारे देश में इनकी तदाद बहुत ही ज्यादा है।

बता दें कि मुम्बई में शुक्रवार की रात पटरी पार करते समय एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई. इसकी आयु 83 साल की बताई जा रही है. इनका नाम बिड़दीचंद आजाद है यह पेशे से भिखारी था. जब इसकी मौत की सूचना पुलिस को मिली, तो पुलिस उसकी झोपड़ी में पहुंची और उसमे कोई नहीं मिला. जब पुलिस ने तलाशी ली तो पुलिस तो हैरान हो गई। घर मे बोरी में भरकर सिक्के रखे हुए थे और कुछ एफडी के सर्टिफिकेट भी थे।

अब जीआरपी पुलिस का कहना है कि सिक्के इतने अधिक थे कि गिनने में उन्हें घंटों लग गया. घर से कुल 1 लाख 50 हजार रुपये के करीब थे. इसके अलावा बैंक एफडी के कई सर्टिफिकेट मिले, जिनकी कुल कीमत 8 लाख 77 हजार रुपये है।

राजस्थान का रहने वाला यह भीखारी मुम्बई के गोवंडी इलाके में रेल पटरी के पास ही रहा करता था. और रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर अपना गुजारा करते था. लेकिन किसी को भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि उनके पास कितने पैसे है।

यह भी पढ़ें: माता-पिता के नाम पर शुरू करें यह स्कीम, 10 लाख के बन जाएंगे 15 लाख रुपये

इस भिखारी के पास से पुलिस को उसका पैन कार्ड, आधार कार्ड और सीनियर सिटीजन कार्ड भी मिला है. जिसके बाद जीआरपी पुलिस ने राजस्थान पुलिस से बीरभिचन्द आजाद के परिवार वालों की तलाश करने की कर्रयवाही शुरू करने को कहा है।