माता-पिता के नाम पर शुरू करें यह स्कीम, 10 लाख के बन जाएंगे 15 लाख रुपये

0
How to earn money
How to earn money

देश में इस समय आर्थिक सुस्ती छायी हुई है लेकिन फिर भी अगर आप अपने माँ-बाप के लिए अगर कुछ निवेश करना चाहते हैं, उन्हें कुछ उपहार देना चाहते हैं तो यह समय बहुत ही उपयुक्त है। एक स्कीम है जो बहुत ही सुरक्षित और फायदेमंद है यह पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS) है। आइये इसके बारें में विस्तार से जानते हैं।

आपको बता दें कि पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम में अभी 8.6 फीसदी का सालाना ब्याज मिल रहा है, जबकि, प्रमुख बैंकों के एफडी रेट्स की बात करें तो यह औसतन 7 फीसदी है। इसलिए यह फायदेमंद है। इस स्कीम में सालाना ब्याज 8.6 फीसदी मिलेगा। इस स्कीम में मैच्योरिटी पीरियड 5 साल है।

पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम में अकाउंट 5 साल के लिए खुलवाया जा सकता है। इस स्कीम में सिर्फ 1 बार पैसा जमा करना होता है। SCSS में अधिकतम 15 लाख रुपये ही निवेश किए जा सकते हैं। इस स्कीम में पति-पत्नी ज्वाइंट अकाउंट खोल सकते हैं लेकिन ज्वाइंट अकाउंट खोलने के बाद भी निवेशक अधिकतम 15 लाख रुपये ही जमा कर सकते हैं। कोई भी ऐसा व्यक्ति जिसकी उम्र 60 साल है, इस स्कीम के तहत पैसे जमा कर सकता है।

10 लाख के बनाएं 15 लाख

अगर सीनियर सिटीजंस स्कीम में आप एक मुश्त 10 लाख रुपये निवेश करते हैं तो सालाना 8.6 फीसदी (चक्रविधि व्याज) की दर के हिसाब से 5 साल बाद यानी मेच्योरिटी पर कुल रकम 15,10,599 रुपये होगी यानी 15 लाख रुपये से ज्यादा. यहां आपको ब्याज के रूप में 510599 रुपये का फायदा हो रहा है।

वहीं, इस स्कीम में अगर आप अधिकतम लिमिट यानी 15 लाख रुपये का निवेश करते हैं तो 5 वर्ष में आप 7,65,898 रुपये का ब्याज कमा सकते हैं. इसका मतलब है कि 15 लाख रुपये निवेश करने पर 5 साल बाद आपको 2,265,898 रुपये मिलेंगे।

1 लाख से कम रकम के साथ अकाउंट कैश में खुलवाया जा सकता है लेकिन उससे ज्यादा रकम के लिए चेक का इस्तेमाल करना होगा। खाता खोलने और बंद करवाने के समय नॉमिनेशन फैसिलिटी उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें: हॉलीवुड एक्ट्रेस की तरह दिखने के लिए की 50 प्लास्टिक सर्जरी

कितना कटेगा टैक्स

टैक्स की बात करें तो अगर SCSS के तहत आपकी ब्‍याज राशि 10,000 रुपये सालाना से ज्‍यादा हो जाती है तो आपका TDS कटने लगता है। हालांकि इस स्कीम में इन्वेस्टमेंट पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट है।