हरिद्वार में कल होगी अटल जी की अस्थिया विसर्जित, भाजपा के आला नेता रहेंगे मौजूद

0

देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब हमारे बीच नहीं रहे. लंबे समय से बीमार चल रहे अटल जी का परसों यानी 16 अगस्त को निधन हो गया. 16 अगस्त की शाम करीब 5 बजे उन्होंने AIMS में आखिरी सांस ली. वह 93 वर्ष के थे. साल 2014 में उन्हें भारत रतन से नवाज़ा गया था. उनके जाने के बाद से ही पुरे देश में शौक का माहौल है. केंद्र सरकार ने भी देश में सात दिन का शौक घोषित किया है.

हरकी पौड़ी पर की जायेंगी अस्थिया प्रवाहित

हर की पौड़ी पर अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियों का विसर्जन किया जाना है. इस दौरान परिवार के साथ बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व भी मौजूद रहेगा. वही अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थि विसर्जन हरिद्वार में होगा. जानकारी के मुताबिक, 19 अगस्त (रविवार) को हरिद्वार में उनकी अस्थियों को प्रभावित किया जाएगा.

भाजपा का शीर्ष नेतृत्व रहेगा मौजूद

हरिद्वार में परिवार के अलावा भाजपा के कई नेता भी वहा मौजूद रहेंगे. अस्थि कलश यात्रा को लेकर बीजेपी प्रदेश महामंत्री नरेश बंसल ने शुक्रवार (17 अगस्त) शाम को ही हरिद्वार पहुंचकर स्थानीय वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की. बैठक में जिले के 23 मंडलों के अध्यक्ष समेत सभी मोर्चो के जिलाध्यक्ष और जिला बीजेपी के पदाधिकारी शामिल हुए.

कल शाम राष्ट्रीय स्मृति पर हुआ था अंतिम संस्कार

देश के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रतन अटल बिहारी वाजपेयी कल पंचतत्व में विलीन हो गए. इसी के साथ एक युग का भी अंत हो गया. कल शाम करीब 5  बजे उन्हें मुखाग्नि दी गई. बेटी नमिता कॉल भट्टाचार्य में उन्हें मुखाग्नि प्रदान की. उनका अंतिम संस्कार राजघाट के पीछे शांति वन में हुआ. उनके अंतिम संस्कार में पीएम मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, राहुल गाँधी, राजनाथ सिंह, संघ प्रमुख मोहन भागवत से लेकर तमाम विपक्षी दलों के नेता भी शामिल हुए. दिल्ली के स्मृति स्थल पर राष्ट्र ने उन्हें नम आंखों से अंतिम विदाई दी. वाजपेयी जी का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया. अटल जी का अंतिम संस्कार हिन्दू रीती रवाजों के अनुसार किया गया.