सवाल 119- इस्लाम में 786 नंबर को क्यों पवित्र माना जाता है?

786
786

दोस्तों और प्यारे साथियों आज एक बार फिर से आप लोगों के सवालों का जवाब देने के लिए हम आपकी सेवा में हाज़िर हो गए हैं। आप में से कइयों ने सवाल पूछा है कि ‘’इस्लाम में 786 नंबर को क्यों पवित्र माना जाता है?‘’ तो चलिए इस सवाल का जवाब जानते हैं।

जिस तरह से हिन्दू धर्म में ॐ निशान को पवित्र माना जाता है ठीक उसी प्रकार मुस्लिम धर्म में 786 अंक को पवित्र माना जाता है। 786 अंक को इस्लाम धर्म बहुत ज्यादा अहमियत दी जाती है। कई लोग इस अंक के नोट भी इकठ्ठे करते हैं माना जाता है कि ये अंक जिसके पास हो उसके घर में हमेशा बरकत रहती है।

इस अंक का विशेषकर पाकिस्तान, भारत और म्यांमार जैसे दक्षिण पूर्व एशिया में रहने वाले मुसलमानों के बीच लिखित में कुछ भी शुरू करने के दौरान ‘786’ लिखने का एक आम चलन है। वे अपने साइन बोर्ड और अन्य दस्तावेजों में भी इस संख्या का उल्लेख करते हैं। यह माना जाता है कि यह संख्या कुरान की अभिव्यक्ति “बिस्मिल्लाह अल-रहमान अल-रहीम” के कुल संख्यात्मक मूल्य को दर्शाती है।

वहीं इस्लाम धर्म को मानने वाले लोग कहते हैं कि 786 नम्बर बिस्मिल्ला का रुप है। इसके पीछे तर्क भी दिया जाता है कि जब अरबी भाषा या ऊर्दू में बिस्मिल्ला अल रहमान अल रहीम लिखते हैं तो उन शब्दों का योग 786 आता है। यही कारण है इस 786 नम्बर को पवित्र माना जाता है। बिस्मिल्ला अल रहमान अल रहीम का अर्थ होता हो अल्लाह जो बहुत ही दयालु और रहम दिल के हैं।

बिस्मिल्ला अल रहमान अल रहीम के स्मरण को सीधा अल्लाह से जोड़कर देखा जाता है। इसे वरदान के रुप में माना जाता है। अंक ज्योतिष के अनुसार देखा जाए तो 786 को जोड़ने पर (7+8+6=21) 21 प्राप्त होता है। अब यदि 21 को भी परस्पर जोड़ा जाए तो 3 प्राप्त होता है। तीन को करीब-करीब सभी धर्मों में शुभ अंक माना जाता है।

यह भी पढ़ें- सवाल 90: क्या होती है आयुष्मान भारत योजना, कैसे और कौन ले सकता है इसका लाभ?

कुछ लोग, ज्यादातर भारत और पाकिस्तान में, 786 का उपयोग ‘बिस्मिल्ला’ लिखने के विकल्प के रूप में करते हैं। वे यह संख्या साधारण कागज पर ‘अल्लाह या कुरआन अयाह’ का नाम लिखने से बचने के लिए लिखते हैं। मुसलमानों का कहना है 786 = बिस्मिल्लाह अल-रहमान अल-रहीम’ के बराबर होता है। कुरान “बिस्मिल्लाह-रहमान इर-रहीम” के वाक्यांश के अरबी अक्षर इस तालिका का उपयोग करके संख्यात्मक मान 786 होता है, इस प्रकार इसका महत्व समझते हैं।

उम्मीद करता हूँ कि हमारे द्वारा दिया गया जवाब आपको पसंद आया होगा | आप लोग ऐसे ही हमसे सवाल पूछते रहिए हम उनका जवाब खोज कर आप को देते रहेंगे। आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे अपने सवाल पूछ सकते है | सवाल पुछने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद।