हनुमान जी ने तोता का रूप कब धारण किया था !

lord hanuman ji
lord hanuman

हनुमान जी ने तोता का रूप कब धारण किया था !

हनुमान जी को भगवान श्री राम के बहुत बड़े भक्त के रूप में जाना जाता है। प्रभु श्री राम में अपनी गहरी आस्था के कारण विश्वभर में पूजे जाते है , रावण वध के दौरान हनुमान ने श्री राम का बहुत अच्छा साथ दिया था। हनुमान से जोड़ी बहुत से ऐसा कथा है जो मशहूर है , हनुमान ने आपने बाल रूप से लेकर युवा रूप तक बहुत से ऐसे रूप है जो धारण किये थे।

उनमें से एक प्रख्यात रूप तोते का जो उन्होंने तुलसीदास को भगवन राम से मिलवाने के लिए धारण किया था, आपको बताना चाहेंगे इस रूप को धारण करने की कथा, तुलसी दास भगवान राम की भक्ति में लीन होकर लोगों को राम कथा सुनाया करते थे। एक बार काशी में रामकथा सुनाते समय इनकी भेंट एक प्रेत से हुई।

hanuman ji images 2020
hanuman ji images 2020

प्रेत ने इन्हें हनुमान जी से मिलने का उपाय बताया। तुलसीदास जी हनुमान जी को ढूंढते हुए उनके पास पहुंच गए और प्रार्थना करने लगे कि राम के दर्शन करवा दें।हनुमान जी ने कहा कि राम के दर्शन चित्रकूट में होंगे। तुलसीदास जी ने चित्रकूट के रामघाट पर अपना डेरा जमा लिया। एक दिन मार्ग में उन्हें दो सुंदर युवक घोड़े पर बैठे नज़र आए, इन्हें देखकर तुलसीदास जी सुध-बुध खो बैठे। जब युवक इनके सामने से चले गए तब हनुमान जी प्रकट हुए और बताया कि यह राम और लक्ष्मण जी थे।

Hanuman ji story
Hanuman ji story

तुलसीदास जी पछताने लगे कि वह अपने प्रभु को पहचान नहीं पाए। तुलसीदास जी को दुःखी देखकर हनुमान जी ने सांत्वना दिया कि कल सुबह आपको फिर राम लक्ष्मण के दर्शन होंगे। प्रातः काल स्नान ध्यान करने के बाद तुलसी दास जी जब घाट पर लोगों को चंदन लगा रहे थे तभी बालक के रूप में भगवान राम इनके पास आए और कहने लगे कि “बाबा हमें चंदन नहीं दोगे”।

हनुमान जी को लगा कि तुलसीदास जी इस बार भी भूल न कर बैठें इसलिए तोते का रूप धारण कर गाने लगे ‘चित्रकूट के घाट पर, भइ सन्तन की भीर। तुलसीदास चन्दन घिसें, तिलक देत रघुबीर॥’ तुलसीदास जी बालक बने राम को निहारते-निहारते सुध-बुध खो बैठे और भगवान राम ने स्वयं तुलसीदास ही का हाथ पकड़कर तिलक लगा लिया और खुद तुलसीदास जी के माथे पर तिलक लगाकर अन्तर्धान हो गए।

यह भी पढ़ें: सवाल 149: भगवान शिव को बेल पत्र क्यों अर्पित किए जाते हैं ?

इंदौर के पास स्थित एक मंदिर है जहां आज भी मंदिर के आस -पास तोतों का झुंड दिखाया देता है, ऐसी मान्यता है की हनुमान भगवन के तोते का रूप धारण करने से ही यह तोते इस मंदिर में प्रचिलित है। तोते का रूपइंदौर के पास स्थित एक मंदिर है जहां आज भी मंदिर के आस -पास तोतों का झुंड दिखाया देता है, ऐसी मान्यता है की हनुमान भगवन के तोते का रूप धारण करने से ही यह तोते इस मंदिर में प्रचिलित है।

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc