अगर कोई आप पर झूठी FIR दर्ज कराये तो उसकी ऐसे लगाएं लंका

0
False FIR solution
False FIR solution

ऐसा देखा जाता है कि लोग आपसी झगड़ों को लेकर इतने गंभीर हो जाते हैं कि मामले को थाने तक ले लेकर चले जाते हैं। कभी-कभी ऐसा होता है कि लोग खुन्नस के कारण किसी के ऊपर झूठा FIR दर्ज करवा देते हैं इस समस्या से लगभग सभी दो चार होते हैं। आइये जानते हैं कि तब क्या करना चाहिए जब किसी पर झूठी एफआईआर हो जाए-

सबसे पहली बात अगर आप के ऊपर किसी ने झूठी एफआईआर दर्ज करवाई है तो पुलिस आकर आपको डायरेक्ट गिरफ्तार नहीं करेगी। पुलिस पहले आपसे पूछताछ करेगी। अगर आप सही हो तो आप पूछताछ में बता सकते हो कि आपने कुछ ऐसा नहीं किया है जिसकी वजह से आपके ऊपर एफआईआर हुई है।

जब पुलिस यह निश्चिन्त हो जायेगी कि आपके ऊपर दर्ज किया गया FIR झूठा है तो पुलिस FIR दर्ज कराने वाले शख्स के खिलाफ धारा 182 के मामला दर्ज कर सकती है। इसके तहत उस शख्स को 6 महीने की सजा और 1 हज़ार का जुर्माना झेलना पड़ेगा।

इसके अलावा आप व्यक्तिगत तौर पर आपके ऊपर झूठा FIR दर्ज कराने वाले शख्स के खिलाफ भी कार्यवाही करवा सकते हैं। आप IPC की धारा 211 के तहत मामला दर्ज करवा सकते हैं। ऐसा करने से उस शख्स को दो साल की सजा और जुर्माना भरना पड़ सकता है।

इसके अलावा शख्स ने जितना गंभीर आरोप आपके ऊपर लगाया हो जिसमे तकरीबन 7 साल की सजा हो सकती थी, उसमे फिर उस शख्स को झूठी FIR दर्ज कराने पर उसे 211 के तहत 7 साल की सजा हो सकती है।

यह भी पढ़ें: देखना चाहता था गर्लफ्रेंड कितना करती है प्यार, रचा किडनैपिंग का नाटक

इसके अलावा अगर पुलिस आपके खिलाफ लगे आरोपों को सही मान रही है और उस झूठे FIR के तहत आप पर कार्यवाही करने जा रही है तो आप 482 cr कर PC ले तहत मामला कोर्ट में ले जा सकते हैं। हाईकोर्ट में अपील करने पर आपके खिलाफ जारी अरेस्ट वारंट भी धरा का धरा रह जायेगा। यह आप तभी कर सकते है जब पुलिस वाला आपकी बात न मान रहा हो।

इसके अलावा झूठा FIR दर्ज कराने वाले व्यक्ति के खिलाफ मानहानिका दावा भी किया जा सकता है।