उन्नाव में रेप पीड़िता के केस को UP सरकार ने की CBI को सौंपने की सिफारिश

उन्नाव में रेप पीड़िता के केस को UP सरकार ने की CBI को सौंपने की सिफारिश

उन्नाव में रेप पीड़िता के कार हादसे के मामले में यूपी की सरकार ने सीबीआई की जांच करने की सिफारिश की है. इतना ही नहीं पीड़िता के चाचा के तरफ से दर्ज की गई एफआईआर के बाद इस मामले पर सीबीआई की जांच तेज कर दी गई है. पीड़िता के चाचा से जेल में मिलने गईं डीएम नेहा शर्मा को सीबीआई की जांच के लिए तहरीर लिखित रूप में दी गई थी, जिसे डीएम ने लखनऊ भेज था.

वहीं सड़क हादसे का शिकार हुई रेप पीड़िता के हालत काफी गंभीर बनी हुई है. लखनऊ के केजीएमसी अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि एक्सिडेंट की वजह से उसके फेफड़ों में बहुत ज्यादा चोट लग गई है. यहीं नहीं कुछ समय के लिए पीड़िता को वेंटिलेटर में रखा गया था और उसका ब्लड प्रेशर गिर रहा है. पीड़िता के दाहिने कॉलर की हड्डी, दाईं ओर की कुछ पसलियां, दाहिने हाथ और दाहिने पैर फ्रैक्चर हो गया है.

बता दें कि बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली पीड़िता की गाडी रविवार को एक ट्रक से टक्करा गई थी. जिसमें उसके साथ उसकी चाची, मौसी और वकील था. जिसमें से मौसी और उसकी चाची की मौत हो गई. वकील व पीड़िता गंभीर रूप से घायल हो गये है. जिनका इलाज ट्रॉमा सेंटर में चल रहा है.

यह भी पढे़ं : हत्या और हत्या की साजिश करने के मामले में BJP विधायक पर FIR दर्ज

वहीं योगी आदित्यनाथ सरकार ने कहा है कि अगर उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता चाहती है तो सरकार राय बरेली मामले की सीबीआई जांच कराने के लिए तैयार है. इसमें दो लोगों की मौत हो गईं थी. पीड़िता और उसका वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे. यहीं नहीं पीड़िता और उसके वकील महेंद्र सिंह रविवार को दुर्घटना के बाद से ही लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं.