इन 7 तरीकों से पहचाने कि सामने वाला सच बोल रहा है या झूठ

0
Trick to catch lie
Trick to catch lie

हम जब भी किसी व्यक्ति को बहुत ऊँची-ऊँची बाते करते हुए सुनते हैं तो हम कहते हैं कि बंदा हांक रहा है। हर इंसान अपने जीवन में कभी न कभी ये चीज़ें जरूर करता है। मौजूदा समय में कोई भी सत्यवादी हरिश्चंद्र नहीं है। झूठ के कारण पता नहीं कितने रिश्ते टूटते हैं। अगर लोगों में यह कला हो कि वह सामने वाले के झूठ को पकड़ सके तो कई गलतफहमियां और समस्याएं तो वैसे ही ख़त्म हो जायेंगे। आइये जानते हैं ऐसी ही 7 तरह की बाते जिसके हिसाब से हम पता लगा सकते हैं कि सामने वाला झूठ बोल रहा है या सच-

1- चेहरे पर गौर करें

आपसे जब भी कोई बात करे और आपको लगे कि वो आपसे झूठ बोल रहा है तो आप उसके चेहरे को ध्यान से निहारें। क्योकि झूठ बोलते समय इंसान के चेहरे के भाव बिल्कुल बदल जाते हैं, इस बदलाव में व्यक्ति के गालों का रंग बदल जाता है। क्योकि जो बंदा झूठ बोलता है उसे डर रहता है कि कहीं उसका झूठ न पकड़ा जाए। इसीलिए उसकी भावभंगिमा बदल जाती है।

2- मुस्कुराहट से पकड़ें

जब कोई बात करता है तो वो फालतू में हर बात पर हसता है तो आपको समझ लेना चाहिए कि बंदा आपसे झूठ बोल रहा है। आप किसी का झूठ पकड़ना चाहती हैं तो इस बात पर ध्यान दें कि सामने वाले मुस्कुरा कैसे रहा है। सच्ची मुस्कुराहट होंठों और आंखों से झांकती है, लेकिन झूठे शख्स की आंखों में मुस्कुराहट नहीं होती।

3 – आवाज के बदलाव को पहचानें

कई बार झूठ बोलने वाला शख्स इतनी सफाई से झूठ बोल जाता है को सामने वाले को भनक तक नहीं होती है। जब भी कोई आपसे बात करे तो आप उसकी आवाज से उतार-चढ़ावों को पहचाने। आप अगर बोलने की गति और सांस के पैटर्न पर गौर करें तो पाएंगी कि झूठ बोलते वक्त इन दोनों में या बढ़ोतरी होती है या फिर कमी। अगर ऐसा होता है तो समझ लेना चाहिए कि सामने वाला आपसे झूठ बोल रहा है।

4- सवाल पूछें

जब कोई आपसे झूठ बोले तो उससे सवाल पूछने में बिल्कुल ना हिचकें। कई बार लोग सवाला का जवाब देने में इतने उलझ जाते हैं कि सच्चाई जुबान पर आ जाती है। कई बार सवाल पूछने पर झूठ बोलने वाला इधर-उधर झांकने लगता है, यह स्वाभाविक है, लेकिन साधारण सवाल पूछने पर भी सामने वाला इधर-उधर देखे, नजरें न मिलाए तो यह एक बड़ी पहचान है।

5- बालों में हाथ फेरना

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि झूठ बोलते समय लोग बार-बार अपने बालों पर हाथ फेरते हैं या उंगलियां चटकाते हैं क्योंकि उनके अंदर डर होता है कि कहीं उनका झूठ पकड़ ना लिया जाए। इसका मतलब यह है कि वह झूठ बोल रहा है।

6- आंखों में देखें

झूठ बोलने वाला इंसान कभी भी आँखों में देखकर बात नहीं कर पाटा है। अगर किसी का झूठ पकड़ना है तो आप सामने वाले की आँखों में देखे। अगर वो नज़रें चुराता है तो इसका मतलब है वह आपसे झूठ बोल रहा है। बात करते समय उसकी नजरें झुकी रहती है क्योंकि उसे डर होता है कि कहीं उसका झूठ पकड़ना ना लिया जाए।

यह भी पढ़ें: सवाल 119- इस्लाम में 786 नंबर को क्यों पवित्र माना जाता है?

7- आत्मविश्वास की कमी

सच बोलने वाल शख्स हमेशा आत्मविश्वास से लबरेज नज़र आता है, जबकि झूठ बोलने वाला बार-बार अपनी बांह चढ़ा कर बात करता है। उसके पैर या तो अंदर की मुड़े होते हैं या फिर वह उनका मूवमेंट कम से कम रखता है। उसके हाथ भी अक्सर पीछे बंधे रहते हैं क्योंकि वह अपनी बेचैनी को किसी को दिखाना नहीं चाहता।