राजस्थान: भारत ने थार में किया इस शक्तिशाली मिसाइल का परीक्षण

https://news4social.com/?p=51841

भारत-पाकिस्तान सीमा पर राजस्थान में थार के रेगिस्तान में सोमवार को भारत के नाम एक और उपलब्धि दर्ज हो गई। यहां पर एंटी टैंक मिसाइल नाग के अपडेटेड वर्जन का परीक्षण किया गया। रविवार रात और सोमवार सुबह किए गए मिसाइल के सभी परीक्षण एकदम सटीक रहे हैं।

भारतीय सेना लगातार अपने दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए अपनी ताकत बढ़ा रही है. इसी कड़ी में भारत ने रविवार देर शाम स्वदेसी एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग का तीन बार सफल परीक्षण किया। DRDO की ओर से विकसित और भारत डॉयनामिक्स लिमिटेड की तरफ से निर्मित नाग मिसाइल का परीक्षण सेना के अधिकारियों ने किया। यह मिसाइल सेना की ओर से तय मापदंडों पर एकदम खरी उतरी।

सैन्य सूत्रों का कहना है कि वैज्ञानिकों की उपस्थिति में सेना ने एंटी टैंक मिसाइल नाग की मारक क्षमता जांची। इस क्षेत्र में अलग-अलग मौसम में नाग मिसाइल के पूर्व में भी परीक्षण किए जा चुके हैं। रक्षा मंत्रालय नाग मिसाइल को सेना के लिए खरीदने का ऑर्डर पहले ही दे चुका है।

नाग मिसाइल के अपडेटेड वर्जन में इंफ्रारेड सिस्टम लगाया गया है। इसकी मदद से यह मिसाइल अब अपने लक्ष्य को आसानी से पहचान कर सकती है। इस कारण अब इस मिसाइल की इतनी सटीकता है कि इसे फायर एंड फोरगेट कहा जाने लगा है।

यह भी पढ़ें: जानिये क्या है राष्ट्रपति भवन का इतिहास, विशेषतायें और महत्त्व?

पांच सौ मीटर से लेकर पांच किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली यह मिसाइल एक बार में आठ किलोग्राम वारहैड लेकर जाती है। 42 किलोग्राम वजन वाली नाग मिसाइल 1.90 मीटर लम्बी होती है। यह 230 मीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से अपने लक्ष्य पर प्रहार करती है। नाग मिसाइल दागने वाले कैरियर को नेमिका कहा जाता है। ऊंचाई पर जाकर यह टैंक के ऊपर से हमला करती है।