प्रदूषण के बीच AIR PURIFIER की हो रही है जमकर बिक्री, कारोबार पहुंचा 500 करोड़ के पार

0

प्रदूषण की समस्या देश में हर साल बढ़ती जा रही है। इस समस्या से निपटने के लिए राज्य और केंद्र सरकारें लगातार प्रयास कर रही है। सरकारें अभी तक प्रदूषण को कंट्रोल करने में नाकामयाब हुई है। लेकिन इसी प्रदूषण की वजह से कंपनियों नें अब प्रदूषण को जरिया बनाकर पैसा कमाना शुरु कर दिया है।

कारोबार पहुंचा 500 करोड़ के पार

AIR PURIFIER का व्यापार आज के दौर में भारत में 500 करोड़ के पार पहुंच चुका है और जिस तरह से प्रदूषण लगातार बना ही हुआ है उसको देखकर लगता है की AIR PURIFIER का व्यापार बढ़ता रहेगा। दरअसल में बढ़ते प्रदूषण की वजह से हवा की गुणवता ख़राब हो जाती है, AIR PURIFIER ख़राब हवा को छानकर हवा को साफ़ करता है।

एयर प्यूरिफायर्स की ख़रीद ऑनलाइन भी हो रही है। साल के इन महीनों जब प्रदूषण का स्तर सबसे बुरा होता है इसकी खरीद सबसे ज्यादा होती है। यू तो दर्जनों ब्रांड है लेकिन कुछ ही ब्रांड के एयर प्यूरिफायर रुम के साइज के हिसाब से आते है, इनमे लिविंग रुम, बेड रुम, केबिन और हॉल के एरिया के मुताबिक अलग-अलग मॉडल है। छोटे एयर प्यूरिफायर जिनकी कीमत 5 से 15 हज़ार है जो 428 वर्गफुट के लिए है। 15 से 35 हज़ार तक के एयर प्यूरीफायर 1027 वर्गफुट के दायरे के लिए हैं.  35 हज़ार से ज्यादा कीमत के एयर प्यूरीफायर उससे बड़े एरिया को कवर करते हैं और कुछ तो बेहद महंगे हैं लेकिन कम एरिया को कवर करते हैं.