नित्यानंद ने आइलैंड खरीदकर घोषित किया नया देश, पासपोर्ट, झंडा और प्रतीक सब अलग

0
Nithyananda
Nithyananda

बलात्कार के आरोपी स्वयंभू भगवान नित्यानंद को हालांकि गुजरात पुलिस ढूढ़ने में लगी है। लेकिन इसका पता नहीं लग पा रहा है। मंगलवार देर शाम नित्यानंद अपने यूट्यूब चैनल पर “परमशिवन ज्ञानम” और “परमशिव विघ्ननाम” पर त्रिनिदाद और टोबैगो के पास एक द्वीप से एक प्रवचन दे रहा था।

नित्यानंद के आश्रम द्वारा होस्ट की गई एक वेबसाइट ने दावा किया कि ’कैलासा’ नाम का द्वीप एक हिंदू राष्ट्र है जिसके पास अपना झंडा, पासपोर्ट और प्रतीक है।

कुछ रिपोर्टों के अनुसार, नित्यानंद ने मध्य लैटिन अमेरिका में इक्वाडोर में द्वीप खरीदा है और इसे एक स्वतंत्र, नया राष्ट्र घोषित किया है। इसे “दुनिया भर में हिंदुओं द्वारा फैलाए गए बिना सीमाओं के बिना एक राष्ट्र के रूप में वर्णित किया गया है। नित्यानंद ने इस द्वीप को खरीदकर खुद को वहॉं का भगवान घोषित कर दिया है।

हालांकि पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि नित्यानंद कैसे देश से भागने में कामयाब रहा, हालांकि उसका पासपोर्ट एक्सपायर हो गया था।

वेबसाइट का कहना है कि ‘कैलासा’ ‘जोकि उसने देश का नाम रखा है’ का अपना “पासपोर्ट” है। पासपोर्ट के प्रतीकों में कैलासा का ध्वज, जिसे ऋषभ ध्वाजा कहा जाता है, और नित्यानंद के साथ नंदी, भगवान शिव का पर्वत भी शामिल है।

वेबसाइट के अनुसार, “नया राष्ट्र” एक मंदिर आधारित पारिस्थितिकी तंत्र, तीसरी आंख के पीछे विज्ञान, योग, ध्यान और गुरुकुल शिक्षा प्रणाली भी प्रदान करता है। यह सार्वभौमिक मुफ्त स्वास्थ्य देखभाल, मुफ्त शिक्षा, मुफ्त भोजन और सभी के लिए एक मंदिर-आधारित जीवन शैली प्रदान करता है। इस कथित ‘देश’ में अंग्रेजी, संस्कृत और तमिल बोली जाती है।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि खरीदी गई जमीन या द्वीप को ’राष्ट्र’ घोषित करना मजाक नहीं ’है। अन्य देशों को इसे एक राष्ट्र के रूप में स्वीकार करना होगा और संयुक्त राष्ट्र को भी इसे पहचानना होगा। यह गुरुग्राम जाने, जमीन के एक टुकड़े को खरीदने और इसे एक राष्ट्र घोषित करने जैसा नहीं है,

जांच एजेंसियां ​​पिछले कुछ हफ्तों से वेबसाइट पर कड़ी निगरानी रख रही हैं। यह वेबसाइट 2018 में बनायीं गयी है और कुछ महीने पहले इसे अपडेट किया गया था। संयुक्त राज्य अमेरिका में डलास, टेक्सास में इसकी IP एड्ड्रेस का पता लगाया गया था।

कर्नाटक के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कहा कि विवादास्पद गॉडमैन नित्यानंद के स्थान की कोई प्रामाणिक जानकारी नहीं है।

यह भी पढ़ें- राशिफल: जानिए बुधवार का दिन किन राशियों के लिए शुभ रहेगा?

आपको बता दें कि बलात्कार के मामले में 2012 में जमानत पर छूटने के बाद उसके ठिकाने का पता नहीं चला। उसे फिर कर्नाटक में नहीं देखा गया है, कर्नाटक सीआईडी ​​और गुजरात पुलिस ने भगोड़े बलात्कार के आरोपी नित्यानंद का पता लगाने में मदद करने के लिए विदेश मंत्रालय से संपर्क किया है।

नित्यानंद बहुत बुद्धिमान व्यक्ति है। उनकी कानूनी टीम बहुत मजबूत है। उन्होंने कई विदेशियों और प्रभावशाली लोगों का ब्रेनवॉश किया है। यद्यपि हम उसे एक संपूर्ण द्वीप खरीदने की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं कर सकते, लेकिन वह इसके लिए सक्षम है।