इंग्लैंड के वर्ल्ड कप विजेता बनने पर ICC के नियमों की हो रही है आलोचना

0
https://news4social.com/?p=52418

2019 वर्ल्ड कप का फ़ाइनल मुक़ाबला बहुत ही रोमांचक रहा। जैसे एक मुक़ाबला होना चाहिए ठीक उसी तरह से यह मैच चला। इस मैच के लिए ICC के हर नियम को परखा गया। वैसे इंग्लैंड में इस पूरे टूर्नामेंट बारिश होती रही लेकिन इस मैच में बारिश ने कोई खलल नहीं डाला। मैच टाई हुआ। इसके बाद सुपर हुआ। सुपर ओवर भी टाई हो गया। फिर सबसे ज्यादा बाउंड्री के हिसाब से इंग्लैंड क्रिकेट वर्ल्ड कप की विजेता बन गयी।

इंग्लैंड पहली बार बनी वर्ल्ड कप चैंपियन

आपको बता दें कि क्रिकेट के जन्मदाता ने पहली बार एकदिवसीय वर्ल्ड कप जीता है। इससे पहले हालांकि इंग्लैंड ने T20 वर्ल्ड कप का फ़ाइनल मुक़ाबला जीता था। इस मैच में दर्शकों की सांसें अटकी हुई थी। इंग्लैंड की तरफ से बेन स्टोक्स हीरो बनके उभरे। एक समय ऐसा लग रहा था कि इंग्लैंड मैच हार जायेगी लेकिन स्टोक्स ने 84 रनो की पारी खेलकर टीम को जीत की दहलीज तक पहुंचाया। लेकिन टीम को न्यूज़ीलैंड के स्कोर के पार नहीं ले जा पाये।

ICC के नियम पर हो रहा है विरोध

इस मैच में बेन स्टोक्स मैन ऑफ़ द मैच बने। इंग्लैंड की ये जीत क्रिकेट प्रंशसकों को पच नहीं रही है। लोग बाउंड्री के हिसाब के इंग्लैंड को विजेता घोषित करने के फैसले पर अपना गुस्सा जता रहें हैं। ICC के इस पर कई हस्तियों ने हैरानी जताई और विरोध भी व्यक्त किया। विरोध करने वालों में बॉलीवुड डायरेक्टर अनुराग कश्यप और कई क्रिकेट के शीर्ष खिलाड़ी है जिन्होंने इस नियम को बदलने की मांग की।

सबसे ज्यादा रन, सबसे ज्यादा विकेट

इस वर्ल्ड कप में एक बात बहुत अजीब देखी गयी कि वर्ल्ड कप के फ़ाइनल में पहुंची टीम का कोई भी खिलाडी मोस्ट रन और मोस्ट विकेट टेकिंग वाले खिलाडी नहीं थे। इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन रोहित शर्मा (648) ने बनाये। वही ऑस्ट्रेलिया के मिचेल स्टार्च सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ रहे, उन्होंने 28 विकेट झटके। वहीं मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट केन विल्लियम्सन को मिला।