दिल्ली महिला आयोग ने वेश्यावृत्ति में फंसी लड़की की इस तरह की मदद

DWC
दिल्ली महिला आयोग ने वेश्यावृत्ति में फंसी लड़की की इस तरह की मदद

दिल्ली महिला आयोग ने होलाम्बी कलां से एक 16 वर्षीय लड़की को बचाया है. इस लड़की को तस्करी कर असम से लाया गया था. इतना ही नहीं उसे दिल्ली में वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर किया जा रहा था. वह आरोपियों के चुंगल से भागकर आई थी.

बता दें कि इस लड़की के माता पिता की पहले ही मौत हो चुकी थी. वह अपनी दोनों बहनों के साथ असम में रह रही थी. वहीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल को पीड़िता ने बताया कि, नौ महीने पहले जान पहचान वाले एक व्यक्ति ने उन्हें एक कप बनाने वाली कंपनी में नौकरी दिलाने का वादा किया था जिसके लिए उस लड़की को दिल्ली आने को कहा और तीनों बहनें नौकरी के लिए दिल्ली आ गई. उसी व्यक्ति के साथ उसी के घर में रहने लगी.

उन्हें क्या पता था कि दिल्ली में आकर उन्हे नौकरी की जगह कुछ और ही करने को कहा जाएंगा. दिल्ली आने के बाद उन्हें वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर किया गया था. जब उसने इस बात का विरोध किया, तो उनको कई तरह की शारीरिक सजा दी गई. जिसके बाद वहां पर लोगों ने आना शुरू कर दिया और कई बार कई लोगों ने उन लड़कियों के साथ बलात्कार किया.

फिलहाल दिल्ली महिला आयोग की टीम इस मामले पर एफआईआर दर्ज करने के लिए नरेला इंडस्ट्रियल एरिया थाने पहुंची है, मगर पुलिस ने शुरू में एफआईआर दर्ज करने से मना कर दिया. जिसके बाद महिला आयोग की सदस्यों ने हेल्पलाइन 100 पर फोन किया और पुलिस चौकी पर मौजूद पुलिस अधिकारियों की प्राथमिकी न दर्ज करनें की शिकायत की.

जिसके बाद नरेला इंडस्ट्रियल एरिया थाने की पुलिस ने आईपीसी की धारा 370 A और 344 के तहत एफआईआर दर्ज की. पीड़ित लड़की को आश्रय गृह में भेज दिया गया है और अन्य लड़कियों की तलाश जारी है. जब पुलिस ने इस मामले में आरोपियों की कैद से भागी पीड़िता से पुछताछ की, तो उसने बताया कि उसे और उसकी बहनों को 20 अन्य लड़कियों के साथ एक घर में बंदी बनाकर रखा गया था. उसमें ज्यादातर लड़कियों की उम्र 14 से 15 साल की है.

यह भी पढ़ें : नजफगढ़ में पुलिस ने किया सीरियल रेपिस्ट का खुलासा

पीडिता ने बताया कि उन्हें 24 घंटे में केवल एक बार भोजन दिया जाता था. जिस भोजन में नशिला पदार्थ मिला रहता था, जिसके बाद बेहोशी के हालत में उनके साथ रेप जैसी घटना को अंजाम दिया जाता था. वहां पर किसी से भी बात करने की अनुमति नहीं दी जाती थी. फिलहाल महिला आयोग के कहने पर इस मामले से संबंधित कार्रवाई शुरू कर दिया गया है. पुलिस आरोपियों और कैद की गई लड़कियो की तलाश में जुट गई है.