दिल में छेद की बीमारी, AIMS ने दी 2024 की तारिक

0

भारत के सबसे बड़े अस्पताल AIMS से एसी खबर आई है की आप हैरान हो जायेंगे. ताजा मामला दरअसल बनारस के 13 साल के अंकित विशकर्मा का है. अंकित के दिल का एक वाल्व ख़राब है जिसके कारण बीएचयू मेडिकल इंस्टिट्यूट ने उसे AIMS रेफर कर दिया. आप जान कर हैरान होंगे की शुरुआत के 6 महीने तो सारे टेस्ट कराने में ही निकल गए उसके बाद जा कर 17 जनवरी, 2017 की तारिक मिली. लड़के के पिता सुनील विशकर्मा का आरोप है की वह जल्द इलाज की मन्नते करते रहे पर डॉक्टरो ने उनकी एक नहीं सुनी और फाइल फेक उन्हें बहार का रास्ता दिखा दिया. गौरतलब है की AIMS द्वारा दी गयी यह अब तक की सबसे लम्बी तारिक है.

क्या है पूरा मामला ?

दरअसल जब अंकित पैदा हुआ था तब से उसके दिल में एक छेद है. जिससे भरने के लिए बीएचयू मेडिकल इंस्टिट्यूट से वह 12 साल तक दवा लेता रहा लेकिन बाद में पता चला की उसके दिल का वाल्व ख़राब है जो की बदलना पड़ेगा. इसी चलते उसे AIMS रेफर किया गया था जहाँ सुनील अपने बेटे को लेकर इधर से उधर भटकते रहे लेकिन किसी ने मदद नहीं की.

अब तक की सबसे लम्बी वेटिंग

यह अब तक की सबसे लंबी वेटिंग है. इससे पहले एक चार माह की बच्ची को दिल के ऑपरेशन के लिए 2023 की डेट दी गयी थी लेकिन यह अब तक की सबसे लम्बी तारिक है.

पीएमओ से की गई शिकायत

NGO चलाने वाले दिल्ली के निवासी मुकेश को जब एक कार्येक्रम में सुनील ने जब इस बारे में बताया तो उन्होंने तुरंत इसकी शिकायत पीएमओ में कर दी.

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × 4 =