नशे से मुक्ति के लिए दिल्ली स्थित ‘शफा होम’ आईये

0

दुनिया के सबसे बुरे ऐबों में एक बुरा काम नशा है. नशा न सिर्फ आपकी ज़ाती ज़िंदगी को बल्कि आपके क़रीबीयों की ज़िंदगी को भी मुश्किल कर देता है. लेकिन नशे की सबसे बुरी बात ये है कि इतनी तकलीफ और परेशानियों के बाद भी नशे की समस्या से जूझ रहा शख्स इससे पीछा नही छुड़ा पाता.

नशे की लत से मुक्ति दिलाने के लिए देश में कई नशा मुक्तीकेंद्र हैं लेकिन राजधानी दिल्ली में स्थित ‘शफा होम’ सबसे अलग है. इस नशा मुक्तीकेंद्र की खासियत यही है कि यहाँ पर सिर्फ नशे से ही नही बल्कि अपने अन्दर की हर कमी से मुक्ति दिलायी जाती है. यहाँ पर मौजूद सभी डॉक्टर्स और स्टाफ मरीज़ों का इलाज करते वक़्त उनसे एक भावनात्मक रिश्ता भी कायम करते हैं. जिस वजह से उनका खुद पर विश्वास कायम होता है और मुश्किल परिस्थितियों से निपटने का साहस मिलता है.

इस तरह हुई स्थापना

शफा एक उर्दू का शब्द है जिसका मतलब है ‘किसी को स्वस्थ करने की क्षमता’. शफा होम में नशा मुक्ति के सबसे पुराने और असरदार तरीकों के ज़रिये मरीजों का इलाज किया जाता है. इस नशा मुक्तीकेंद्र के स्थापना की कहानी भी कम दिलचस्प नही है. 22 नवम्बर 1999 को नशे से जूझ रहे कुछ लोगों ने श्री रंजन धार से संपर्क किया. उस वक़्त रंजन जी को नशा मुक्ति के क्षेत्र में 8 साल का तजुर्बा था, इसलिए वो उनकी पहली पसंद थे. उन लोगों ने रंजन जी की मदद से एक अलग तरह के नशा मुक्ती केंद्र की स्थापना करने की कोशिश की और सफल भी हुए.

इलाज नही जीने का सलीका देते हैं

शफा होम में मरीजों को एक सामान्य दिनचर्या दी जाती है. इनके दिन की शुरुवात योगा और झंडारोहण से होती है. इसके बाद दिनभर में सेल्फ मोटिवेशन, किस्से कहानियों और अलग-अलग थेरेपीज़ के ज़रिये मरीज़ो को दिनभर व्यस्त रखा जाता है. शफा होम में रहने वाले लोगों को अलग-अलग जिम्मेदारियां दी जाती हैं और उन्हें पूरा करने के लिए वक़्त भी दिया जता है.

यहाँ पर हर शनिवार को डांस पार्टी की जाती है. वहीं दिन ख़त्म होने पर डायरी लिखने के लिए कहा जाता है. शफा होम में सिर्फ देश के ही नही विदेश के भी चुनिन्दा मनोचिकित्सक मरीज़ों के साथ रहते हैं. वो उनकी हर गतिविधी पर पैनी नज़र रखते हैं और फिर उसीके मुताबिक उनका इलाज करते हैं.

शफा होम से जुड़ी हर गतिविधि को समझने के लिए आप इस विडियो को देखें. अगर आपकी जान-पहचान के किसी शख्स को यहाँ जाने की ज़रुरत हो तो बेझिझक कांटेक्ट करें.

&

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × four =