जानिए कौन था करीम लाला? इंदिरा गांधी की लाला से मुलाकात का क्या है रहस्य?

0
करीम लाला ? इंदिरा गांधी

शिवसेना सांसद संजय राउत नेगुरुवार को इंदिरा गांधी पर बयान देकर राजनीति को गर्मा दिया है। राउत का यह बयान इंदिरा गांधी और मुंबई के तब के डॉन करीम लाला पर था। हालांकि संजय राउत को बाद राजनीतिक दबाव के कारण अपना बयान वापस लेना पड़ा और इसपे उन्होंने सफाई दी। आइये जानते हैं कि संजय राउत ने इंदिरा गांधी को लेकर क्या कहा था?

गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और अंडरवर्ल्ड सरगना करीम लाला के बीच मुलाकात होती थी इसको लेकर संजय राउत ने बयान दिया था। एक मराठी अखबार को दिए इंटरव्यू में सांसद राउत ने कहा था कि इंदिरा गांधी, करीम लाला से और मैं दाउद इब्राहिम से मुलाकात कर चुका हूं।

कौन था करीम लाला?

आइये जानते हैं कि संजय राउत जिस करीम लाला की बात कर रहें हैं वह कौन है. करीम लाला एक अफगानी पठान है उसका असली नाम अब्दुल करीम शेर खान था। उसका जन्म 1911 में अफगानिस्तान के कुनार प्रांत में हुआ था। उसे पश्तून समुदाय का आखिरी राजा भी कहा जाता है। करीम 21 साल की उम्र में मुंबई आया। यहां उसने हीरे-जवाहरात की तस्करी का काम शुरू किया। 1940 तक उसने इस काम में पकड़ बना ली थी।

मुंबई पर करीम लाला ने करीब 30 साल तक एकतरफा राज किया। अंडरवर्ल्ड में 1981 से 1985 के बीच करीम लाला गैंग और दाऊद के बीच जमकर गैंगवार होती रही। इसके बाद दाऊद ने करीम लाला गैंग का सफाया किया और मुंबई पर अपना कब्जा जमाया। करीम लाला अकेला पड़ गया और 90 साल की उम्र में 19 फरवरी 2002 को मुंबई में ही करीम लाला की मौत हो गई थी। करीम लाला को पठानों का गॉडफादर भी कहा जाता है.

संजय निरुपम ने संजय राउत पर बोला हमला

हालांकि संजय राउत के इस बयान पर सभी विपक्षी दलों ने शिवसेना को घेरा। उनकी पार्टी के पहले सहयोगी रहे देवेंद्र फडणवीस ने सवाल किया कि संजय राउत और क्या जानते हैं उन्हें बताना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने कांग्रेस से भी इस मामलें पर सफाई मांगी।

राउत पर इसके बाद कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी सच्ची देशभक्त थीं। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा, ‘‘बेहतर होगा कि शिवसेना के मि. शायर दूसरों की हल्की-फुल्की शायरी सुनाकर महाराष्ट्र का मनोरंजन करते रहें। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी के खिलाफ दुष्प्रचार करेंगे तो उन्हें पछताना पड़ेगा। उन्होंने इंदिरा जी के बारे में जो बयान दिया है वो वापस ले लें।”

यह भी पढ़ें: तिहाड़ से रिहा भीम आर्मी के चीफ का ऐलान ” CAA और NRC के खिलाफ रहेगी जंग जारी”

संजय राउत ने दी सफाई

तमाम दबावों के बीच अपने दिए बयान पर सफाई दी। उन्होंने कहा- इंदिरा गांधी अंडरवर्ल्ड सरगना करीम लाला से एक पठान नेता के तौर पर मिलती थीं। मैं पूर्व प्रधानमंत्री जवारलाल नेहरू और इंदिरा गांधी का सम्मान करता हूं।