यूपी:  10 लाख रूपये के लोन ने बैंक मैनेजर को पहुंचा दिया थाने

0

आजकल देश में हर रोज़ भ्रष्टाचार से जुड़ा एक नया मामला सामने आ रहा है. अभी ताजा-ताज़ा सामने आये मामले में यूपी के चंदोली जिले में सीबीआई की टीम ने सोमवार रात छापा मारा. सीबीआई को गुप्त सूत्रों से सूचना मिली थी कि एसबीआई के बैंक मैनेजर अजय कुमार गोंड ने घूस ली है. इस टिप के बाद जांच एजेंसी ने छापेमारी करके रिश्वत लेने वाले बैंक मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया है.

1O लाख पर बिगड़ी नीयत

बताया गया है कि चंदोली के ज़िले खजूर गांव निवासी रामाश्रय सिंह शहाबगंज क्षेत्र के ईशापुर में प्राइमरी विद्यालय में प्रधानाध्यापक के पद पर नियुक्त हैं. उन्होंने अपने किसी ज़रूरी काम के लिए बैंक से 10 लाख रूपये लोन लेने की बात की थी. आरोप है कि बैंक मैनेजर ने लोन लेने के एवज़ में ५ परसेंट घूस की डिमांड कर दी. रामाश्रय सिंह ने तुरंत ही घूस मांगने की बात अपने परिजनों को बताई. घटना की जानकारी मिलते ही रामाश्रय के स्नातक किये हुए बेटे विष्णु दयाल सिंह ने इस बात की शिकायत इंटेलिजेंस वाराणसी को दी. रामाश्रय के बेटे ने बताया कि उसके पिता ने लगभग एक हफ्ता पहले किसी ज़रूरी काम के लिए स्टेट बैंक आफ इंडिया की साहूपुरी शाखा में दस लाख रुपये ऋण के लिए आवेदन किया था.

ऐसा तो बस फिल्मों में हुआ

स्टेट बैंक का मामला होने के चलते इस मामले को सीबीआई के हवाला किया गया. सीबीआई ने मामले की पूरी तहकीकात करने के लिए तथा तथ्यों की पुष्टि के लिए एक स्टिंग ऑपरेशन की योजना बनाई. पुलिस ने रामाश्रय सिंह और उनके बेटे विष्णु दयाल सिंह को स्टिंग के लिए एक रिकार्डिंग डिवाइस और रंग लगे 40 हज़ार रुपये देकर बैंक में भेज दिया. जब बैंक मैनेजर से बात होने लगी तो मैनेजर ५ प्रतिशत घूस लेकर लोन देने को तैयार हो गया. जिसकी रिकार्डिंग डिवाइस में हो गई. विष्णु दयाल ने बताया कि पिता रामाश्रय सिंह ने 40 हज़ार रुपये बैंक मैनेजर को दे दिये और बैंक से बाहर निकलते ही सीबीआई टीम को इसकी जानकारी दे दी.

सूचना मिलते ही शाम को तक़रीबन ७ बजे सीबीआई के अधिकारी बैंक पहुँच गए. बैंक मैनेजर अजय कुमार गोंड को गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद देर रात तक सीबीआई कि कार्यवाही चलती रही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nine + 18 =