हर धर्म के लोग कर रहे कांवड़ियों की मदद, पेश की सेकुलरिज्म की मिसाल

0

देश में धर्म के नाम पर बढ़ते मामलो के बीच कुछ एसा हुआ है जिसे देख कर हम सब शायद थोड़ी राहत महसूस करेंगे. सांप्रदायिक सौहार्द का यह नज़ारा देश में सेकुलरिज्म की मिसाल पेश कर रहा है.

देश की सबसे लंबी धार्मिक यात्रा में मुज्जफ्फर नगर एक बार फिर कांवड यात्रा के दौरान सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल पेश कर रहा है. इसमें बहुसंख्यक वर्ग से भगवान शंकर के भक्त कांवड़िये हरिद्वार से पवित्र गंगाजल लेकर अपने गंतव्य की ओर बढ़ रहे हैं. वहीं इन कावड़ियों की सेवाओं में सभी धर्मों के लोग लगे हुए हैं.

इसका जीता जागता उदाहरण कांवड़ यात्रा के दौरान जनपद में अनेक स्थानों पर मुस्लिम संगठन कांवड़ियों की सेवा करते नजर आ रहे हैं. मीनाक्षी चौक की आवाज-ए-हक संगठन की है, जो शिव भक्त का वीडियो की सेवा में लगे हुए हैं. इस संगठन के अध्यक्ष शादाब खान पिछले कई सालों से कावड़ यात्रा की सेवा करने के लिए शिविर लगाते हैं और इस शिविर में कांवरियों को खाने पीने की चीजों के साथ साथ उनकी दवाई और मरहम पट्टी तक की जाती है. यही नहीं पैदल चलने के कारण कांवड़ियों के फेर में दर्द होने या थकान की स्थिति में उनके पैर भी दबाए जा रहे हैं.

2013 में मुज्जफ्फर नगर में हुए थे भयानक दंगे

दंगो का दाग झेल रहा मुज्जफ्फ्नगर के माहौल में सुधार हुआ है. दंगो को भूल लोग शिव के भक्तो की सेवा में अपना अपना हाथ बटा रहे है. जिसमे मुस्लिम वर्ग भी बढ़ चढ़ कर भागीदारी ले रहा है. कावड़ यात्रा के दौरान सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल पेश करने की अद्भुत तस्वीरें सामने आ रही हैं.

वहीं कांवड़ यात्रा की सुरक्षा में लगे एसपी सिटी ओमवीर सिंह ने भी सांप्रदायिक सद्भाव के इस अनोखे प्रयास की तारीफ की है. उनका कहना है कि इस कांवड़ यात्रा के दौरान सभी धर्मों के लोग कांवड़ यात्रियों की सेवा में लगे हुए हैं. खासकर मुस्लिम समुदाय के लोग जीजान से कांवड़ियों की सेवा कर रहे हैं जो अपने आप में भाईचारे की मिसाल है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 + 3 =