प्रणब मुखर्जी, “GDP ग्रोथ की स्लो रेट से चिंतित नहीं हूँ।”

0

वर्तमान समय में देश में मंदी छाई हुई है। GDP ग्रोथ रेट नीचे गिर रहा है। सरकार की नीतियों की आलोचना की जा रही है। उद्योगपति, अर्थशास्त्री और विपक्ष के नेता भी सरकार को देश में छाई मंदी के लिए कटघरे में खड़े कर रहें हैं। लेकिन कांग्रेस की सरकार में वित्त मंत्री रहे पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने इस मंदी से ज्यादा चिंतित न होने के लिए कहा है। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने बुधवार को कहा कि वह आर्थिक मंदी से चिंतित नहीं हैं क्योंकि “कुछ चीजें” जो हो रही हैं, उनका आगे चलकर प्रभाव पड़ेगा। गौरतलब है कि प्रणब GST और सरकारी नीतियों को लेकर यह बात बोली।

आपको बता दें कि प्रणब मुखर्जी यूपीए सरकार में वित्त मंत्री के रूप में भी कार्य किया। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में पूंजी की जरूरत नहीं है।

प्रणब ने भारतीय सांख्यिकी संस्थान (आईएसआई) में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, “मैं देश में जीडीपी वृद्धि की धीमी दर से चिंतित नहीं हूं। कुछ चीजों पर इसका असर पड़ेगा, ”उन्होंने यहां ।

उन्होंने कहा “भारतीय बैंकों ने 2008 में वित्तीय संकट के दौरान लचीलापन दिखाया। मैं तब वित्त मंत्री था। एक भी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ने मुझसे पैसे के लिए संपर्क नहीं किया था।”

मुखर्जी ने कहा कि अब सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को बड़े पैमाने पर पूंजी डालने की जरूरत है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है।

यह भी पढ़ें: अमेरिकी सांसद का नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर भारत पर वार

पूर्व राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि लोकतंत्र में समस्याओं को हल करने के लिए बातचीत महत्वपूर्ण है।

उन्होंने आगे कहा कि लोकतंत्र में डेटा की सुरक्षा भी बहुत ही महत्वपूर्ण है। नहीं आगे चलकर यह देश के लिए विनाशकारी होगा।

मुखर्जी ने कहा कि पूर्ववर्ती योजना आयोग ने देश की अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा, “मुझे खुशी है कि अभी भी कुछ कार्य नीति आयोग द्वारा किए जा रहे हैं।”