जाने क्या है ॐ शब्द का अनोखा रहस्य?

0

हिन्दू धर्म में ॐ शब्द का एक उच्त्तम स्थान है , ऐसा कोई मन्त्र नहीं जहां ॐ का उच्चारण न होता हो। नमस्कार में हु साधना शर्म स्वागत है आप सभी का न्यूज़ फॉर सोशल पे जानते है हमारी खास पेशकश में की आखिर क्या है ॐ का रहस्य ? मंत्रो का एक अनूठा स्थान है हिन्दू संस्कृति में।


मन पर नियन्त्रण करके शब्दों का उच्चारण करने की क्रिया को मन्त्र कहते है। मन्त्र विज्ञान का सबसे ज्यादा प्रभाव हमारे मन व तन पर पड़ता है। मन्त्र का जाप एक मानसिक क्रिया है। कहा जाता है कि जैसा रहेगा मन वैसा रहेगा तन। यानि यदि हम मानसिक रूप से स्वस्थ्य है तो हमारा शरीर भी स्वस्थ्य रहेगा।


मन को स्वस्थ्य रखने के लिए मन्त्र का जाप करना आवश्यक है। ओम् तीन अक्षरों से बना है। अ, उ और म से निर्मित यह शब्द सर्व शक्तिमान है। जीवन जीने की शक्ति और संसार की चुनौतियों का सामना करने का अदम्य साहस देने वाले ओम् के उच्चारण करने मात्र से विभिन्न प्रकार की समस्याओं व व्याधियों का नाश होता है।


सृष्टि के आरंभ में एक ध्वनि गूंजी ओम और पूरे ब्रह्माण्ड में इसकी गूंज फैल गयी। पुराणों में ऐसी कथा मिलती है कि इसी शब्द से भगवान शिव, विष्णु और ब्रह्मा प्रकट हुए। इसलिए ओम को सभी मंत्रों का बीज मंत्र और ध्वनियों एवं शब्दों की जननी भी कहा जाता है।


इस मंत्र के विषय में कहा जाता है कि, ओम शब्द के नियमित उच्चारण मात्र से शरीर में मौजूद आत्मा जागृत हो जाती है और रोग एवं तनाव से मुक्ति मिलती है। इसलिए धर्म गुरू ओम का जप करने की सलाह देते हैं। जबकि वास्तुविदों का मानना है कि ओम के प्रयोग से घर में मौजूद वास्तु दोषों को भी दूर किया जा सकता है।

ओम मंत्र को ब्रह्माण्ड का स्वरूप माना जाता है। धार्मिक दृष्टि से माना जाता है कि ओम में त्रिदेवों का वास होता है इसलिए सभी मंत्रों से पहले इस मंत्र का उच्चारण किया जाता है जैसे
ओम नमो भगवते वासुदेव, ओम नमः शिवाय।


आध्यात्मिक दृष्टि से यह माना गया है कि नियमित ओम मंत्र का जप किया जाए तो व्यक्ति का तन मन शुद्घ रहता है और मानसिक शांति मिलती है। ओम मंत्र के जप से मनुष्य ईश्वर के करीब पहुंचता है और मोक्ष प्राप्ति का अधिकार उससे मिलता है।

यह भी पढ़ें : जानिए भगवान शिव कब करते हैं तांडव

नींद न आने की समस्या इससे कुछ ही समय में दूर हो जाती है. रात को सोते समय नींद आने तक मन में इसको करने से निश्चित नींद आएगी। धार्मिक ही नहीं वैज्ञानिक तोर भी यह देखा गया है की ॐ शब्द के उच्चारण से मानसिक शांति प्रदान होती है जो रोज़मर्रा की तकलीफो , झंझट था परेशानियों का सामना करने की सूझ बूझ प्रदान करती है।