कश्मीरी पंडितों के घाटी से पलायन की 30वीं वर्षगांठ पर ट्रेंड हुआ #HumWapasAayenge

0
HumWapasAayenge
HumWapasAayenge

कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों के सामूहिक पलायन की 30 वीं वर्षगांठ को याद करते हुए वहां से पलायन कर चुके लोगों ने ट्विटर पर “हम आयेंगे अपने वतन” हैशटैग रन किया।

आपको बता दें कि 19 जनवरी, 1990 को लाखों कश्मीरी पंडित घाटी में आतंकवादियों द्वारा शुरू किए गए जनसंहार अभियान के बाद अपने घरों को छोड़ने के लिए मजबूर हो गए।

थिएटर अभिनेता चंदन साधु ने अभियान में भाग लिया और कहा कि कश्मीरी पंडितों के जल्द ही घाटी में लौटने की उम्मीद है।

हैशटैग #HumWapasAayenge ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है, क्योंकि अधिक से अधिक कश्मीरी पंडित “हम आयेंगे अपने वतन” हैशटैग लगाकर ट्वीट कर रहें हैं।

आपको बता दें कि यह सब तब शुरू हुआ जब ‘शिकारा’ नाम की फिल्म का ट्रेलर लांच हुआ।

फिल्म “शिकारा” 19 जनवरी, 1990 की रात घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन को दिखाती है। विधु विनोद चोपड़ा द्वारा निर्देशित यह फिल्म 7 फरवरी को रिलीज होगी।

कई लोगों ने फिल्म का समर्थन किया है और कश्मीरी पंडितों के साथ एकजुटता व्यक्त की है।

पिछले साल जुलाई में गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि केंद्र सरकार कश्मीरी पंडितों और सूफियों को घाटी में वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध है, यह कहते हुए कि एक समय आएगा जब वे प्रसिद्ध खीर भवानी मंदिर में प्रार्थना करेंगे।

माता खीर भवानी मंदिर कश्मीरी पंडितों के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक है, जो श्रीनगर से लगभग 14 किलोमीटर पूर्व में स्थित है।

यह भी पढ़ें: इतिहासकार गुहा का बयान- राहुल गांधी कभी मोदी नहीं बन सकते हैं, केरल ने…

पिछले साल सितंबर में कश्मीरी पंडित समुदाय के एक प्रतिनिधिमंडल ने ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री से मुलाकात की और जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को खत्म करने के ऐतिहासिक निर्णय के लिए उन्हें धन्यवाद दिया।