नवजोत सिंह सिद्धू के समर्थन में आए इमरान ख़ान कहा शांतिदूत

0

 पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने नवजोत सिंह सिद्धू का पाकिस्तान आने पर समर्थन किया है। उन्होंने कहा की नवजोत सिंह सिद्धू का पाकिस्तान आने में कुछ भी गलत नहीं है। जो लोग उनके पाकिस्तान आने पर अफसोस जता रहे है वे भारत और पाकिस्तान के बीच शांति नहीं चाहते है। उन्होंने आगे कहा की भारत और पाकिस्तान को अपने मुद्दों को सुलझाने के लिए बातचीत करनी चाहिए। बिना बातचीत के दोनों मुल्कों के लोग आगे नहीं बढ़ सकते है।

आपको बता दें कि हाल में नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए पाकिस्तान गए थे। वहां पर उन्होंने पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान ख़ान से मुलाकात की। उन्होंने पाकिस्तान आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा को गले लगाया था। जिस पर काफी लोगों ने आपत्ति जताई है। यहां तक की पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू की यह कह कर आलोचना की , की उन्हें पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा को गले नहीं लगाना चाहिए था।

दुसरी तरफ़ अपनी पाकिस्तान यात्रा पर नवजोत सिंह सिद्धू नें कहा की उन्हें पाकिस्तान से न्योता आया था इसलिए वह इमरान ख़ान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए पाकिस्तान गए थे। बाजवा को गले लगाने के सवाल पर नवजोत सिंह सिद्धू नें सफ़ाई देते हुए कहा की बाजवा नें उन्हें कहा की पाकिस्तान शांति चाहता है जिससे वह भावुक हो गए थे और उन्होंने उन्हें गले लगा लिया था। उन्होंने अपनी सफ़ाई में आगे कहा की पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने करगिल होने के बाद भी पाकिस्तान से बातचीत की थी। जिस तरह से मेरी आलोचना हो रहीं है उससे मैं बहुत दुखी हुँ।

सिद्धू नें कहा की मेरी यात्रा किसी भी तरह की राजनीतिक नहीं थी इसलिए मेरी आलोचना करना ग़लत है। मुझे पाकिस्तान से दस बार न्योता मिला था पाकिस्तान सरकार नें मुझे वीजा भी दिया था, जिसके बाद मैंने विदेश मंत्रालय से पाकिस्तान जाने की इजाजत मांगी थी खुद सुषमा स्वराज नें मुझे फोन कर  पाकिस्तान जाने की इज़ाजत दी थी। नवजोत सिंह सिद्धू नें अपने बयान में आगे कहा की भारत और पाकिस्तान को मिलकर बातचीत करनी चाहिए।