ICC ने इस टेस्ट प्लेइंग क्रिकेट टीम को किया निलंबित, क्रिकेटर हुए बेरोजगार

0
https://news4social.com/?p=52861

जिम्बाब्वे के क्रिकेटर सिकंदर रजा और पूर्व कप्तान ब्रेंडन टेलर ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) द्वारा जिम्बाब्वे क्रिकेट को उसके संविधान के उल्लंघन के कारण निलंबित करने के बाद अपनी निराशा व्यक्त की।

रज़ा और टेलर ने दुःख को व्यक्त करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया और निर्णय के कारण उपजी बेरोजगारी के लिए ICC और ज़िम्बाब्वे क्रिकेट को लताड़ा।

रजा ने ट्वीट किया, “कैसे एक निर्णय ने एक टीम के इतने सारे लोगों को बेरोजगार बना दिया है, एक निर्णय कितने परिवारों को प्रभावित करता है, एक निर्णय ने कितने करियर को समाप्त कर दिया है। निश्चित रूप से मैं अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को इस तरह से अलविदा नहीं कहना चाहता था।”

जिम्बाब्वे को सरकारी हस्तक्षेप के कारण गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से निलंबित कर दिया गया।

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने कहा कि यह आदेश ज़िम्बाम्बे को देने वाले सभी पैसे को बंद कर देगा। आपको बता दें कि ज़िम्बाम्बे एक टेस्ट-प्लेइंग देश और ICC का पूर्णकालिक सदस्य है।

यह प्रतिबंध कम से कम अक्टूबर तक लागू रहेगा उसके बाद ICC जिम्बाब्वे की स्थिति पर पुनर्विचार करने के लिए फिर से बैठक करेगा।

जिम्बाब्वे को अक्टूबर में विश्व T-20 क्वालीफायर में खेलना था लेकिन ICC के इस फैसले से उसकी भागीदारी पर संदेह है।

ज़िम्बाम्बे सरकार द्वारा संचालित खेल और मनोरंजन आयोग द्वारा पिछले महीने क्रिकेट बोर्ड को हटाने और अस्थायी नेतृत्व स्थापित करने के बाद जिम्बाब्वे को निलंबित कर दिया गया था। आयोग ने जिम्बाब्वे क्रिकेट में भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के बाद कार्रवाई की, लेकिन ICC ने इसे सरकारी हस्तक्षेप के रूप में देखा, जो ICC के के नियमों के खिलाफ है।

ICC ने लंदन में बोर्ड के बैठक के बाद अपने फैसले की घोषणा की। निलंबन हटाने के लिए जिम्बाब्वे के क्रिकेट अधिकारियों को तीन महीने के भीतर बहाल किया जाना चाहिए।

आईसीसी के अध्यक्ष शशांक मनोहर ने एक बयान में कहा, “हम किसी सदस्य को निलंबित करने के निर्णय को हल्के में नहीं लेते हैं, लेकिन हमें अपने खेल को राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त रखना चाहिए।” “जिम्बाब्वे में जो हुआ है वह ICC के संविधान का एक गंभीर उल्लंघन है और हम इसे अनियंत्रित जारी रखने की अनुमति नहीं दे सकते।

यह भी पढ़ें: बॉम्बे HC ने इसलिए कहा कि मजे लेने दीजिए, IPL में ये बनता है-

“आईसीसी चाहता है कि क्रिकेट ICC संविधान के अनुसार ज़िम्बाब्वे में जारी रहे।”

इससे पहले क्रोएशिया और ज़ाम्बिया को भी निलंबित कर दिया गया था, जबकि मोरक्को के क्रिकेट निकाय को उसके वित्त के आयोजन के तरीके से संबंधित सदस्यता मानदंडों को पूरा करने में लगातार विफल रहने के लिए निष्कासित कर दिया गया था।