भगवान की पूजा में मन कैसे लगाएं ?

1402
भगवान की पूजा में मन कैसे लगाएं
भगवान की पूजा में मन कैसे लगाएं

भगवान की पूजा में मन कैसे लगाएं ? ( How to focus on worshiping God )

भगवान की पूजा करना आस्था का विषय है. आमतौर पर ऐसा कहा जाता है कि हम भगवान की पूजा तो करना चाहते हैं, लेकिन इसमें हमारा मन नहीं लग पाता है या फिर हमारा ध्यान और कहीं चला जाता है. सभी लोगों के मन में सवाल होता है कि ऐसा क्या किया जाएं. जिसके कारण हमारा मन पूजा में लगने लगे. यहां हमें यह ध्यान रखने की जरूरत है कि किसी भी समस्या के समाधान से पूर्व हमें उससे संबंधित कारण जानने आवश्यक होते हैं कि ऐसा हो क्यों रहा है. तभी हम इस समस्या का समाधान अच्छे से कर पाते हैं. इस पोस्ट में जानते हैं कि कैसे भगवान की पूजा में मन लगाएं.

OIP 7 -
ध्यान

भगवान की पूजा में मन क्यों नहीं लगता-

भगवान की पूजा में मन क्यों नहीं लगता है. अगर इस सवाल का जवाब जानने की कोशिश करें, तो इसका साधारण सा जवाब होगा कि वर्तमान समय में भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण विद्यार्थी हो या कोई नौकरी करने वाला इंसान या फिर कोई बिजनैसमैन उनके उपर अपने काम को लेकर एक मानसिक दबाव रहता है. जिसके कारण उनका मन अशांत रहता है. इसी कारण वे भगवान में मन नहीं लगा पाते हैं.

OIP 10 -
शिव शंकर भगवान

इसके अलावा भगवान की पूजा में ध्यान ना लगने के लिए एक कहानी भी काफी प्रचलित है. जिसमें एक बार एक महिला मंदिर के पुजारी से कहती है कि मैं मंदिर में आना बंद कर रही हूँ. पुजारी द्वारा कारण पूछने पर वह बताती है कि यहां सभी लोग बातें करते रहते हैं, इसलिए मेरा भी पूजा में मन नहीं लग पाता है. इस पर पुजारी कहता है कि यह आपकी मर्जी है, लेकिन मेरा आपसे एक अनुरोध है. आप मेरा एक काम कर दिजिए. ऐसा बोलकर पुजारी ने एक गिलास को पूरा पानी से भरा और कहा इसे लेकर पूरे मंदिर की परिक्रमा करनी है. लेकिन ध्यान रहे पानी गिरना नहीं चाहिएं. महिला ने परिक्रमा पूरी की. इसके बाद पुजारी ने पूछा की मंदिर में लोग क्या बाते कर रहें थे. महिला ने कहा कि मेरा ध्यान तो गिलास पर पानी ना गिरने देने पर था. मुझे पता ही नहीं लोग क्या बोल रहे थे. इसके बाद पुजारी ने कहा कि भगवान में मन लगता है, तो हमें किसी भी चीज की फिक्र नहीं रहती है. इसलिए भगवान में मन सिर्फ तभी लगता है, जब हम बाकी सभी चीजों की बजाय भगवान के बारे में सोचे.

यह भी पढ़ें: मेहंदीपुर बालाजी मंदिर राजस्थान में मंदिर के बाहर ताला टांगने का रहस्य ?

भगवान में मन लगाने के लिए क्या करें-

भगवान में मन लगाने के लिए सबसे जरूरी होता है कि अपनी दिनचर्या पर देना देना चाहिएं तथा अपने सभी काम समय पर खत्म करने की आदत बनानी चाहिएं. इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि यदि हम अपनी जिम्मेदारी या कर्तव्यों को पूरा नहीं कर पाते हैं, तो हमारा ध्यान भटकना लाजमी है. सुबह का समय भगवान में मन लगाने के लिए सबसे उपयुक्त होता है. इसलिए सुबह नहाकर भगवान में ध्यान लगाना चाहिएं. इसके अलावा कहा जाता है कि स्वस्थ तन में स्वस्थ मन निवास करता है. यदि हम व्यायाम को जिंदगी का हिस्सा बनाते हैं, तो यह भी भगवान में मन लगाने में सहायक सिद्ध होगा.

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc.