चुनाव ख़त्म और ख़ामोशी से ग़ायब हो गया ‘नमो टीवी’

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार के लिए लाया गया चैनल “नमो टीवी” चुनाव ख़त्म होने के साथ ही प्रसारित होना भी बंद हो गया. असल में चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी के रिकार्डेड भाषणों और चुनाव प्रचार के लिए एक चैनल की लांचिंग की गयी थी. बाद में चुनाव आयोग ने इसे संज्ञान में लिया था और इसके प्रसारण और मालिकाना हक के बारे में जानकारी मांगी थी.

पिछले 17 मई को इस चैनल का प्रसारण बंद कर दिया गया. माना जा रहा है कि चुनाव प्रचार ख़त्म होने के बाद इसकी उपयोगिता भी समाप्त हो गयी थी जिसकी वजह से इसका प्रसारण बंद कर दिया गया है. अब जब चुनाव ख़त्म होने के बाद भी इस नमो टीवी के तिलिस्म का भेद नहीं खुल पाया है.

इस बाबत कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी चुनाव आयोग पर निशाना साधा था कि ऐसा प्रसारण बिना किसी लाइसेंस और सूचना के कैसे किया जा सकता है. इसके अलावा उन्होंने चुनाव आयोग पर विपक्ष के साथ पक्षपात करने का भी आरोप लगाया था.

अब जबकि मार्च में लांच हुए इस चैनल का प्रसारण ही बंदी कर दिया गया है तो चुनाव आयोग की इसपर कार्यवाही करने का सवाल ही नही उठता, वैसे भी इन्टरनेट और डिश की सेवा के इस दौर में चुनाव प्रचार करना आसान तो हुआ है साथ ही साथ चुनाव आयोग की परेशानियां भी बढ़ी हैं.