चुनावी मौसम में ट्विटर के मैदान में बीजेपी और कांग्रेस के बीच चल रही है राजनीतिक लड़ाई

0

नई दिल्ली: चुनाव का मौसम शुरु हो गया है। पहले चार राज्यों में चुनावी माहौल पूरी तरह तैयार हो चुका है। वहीं दूसरी तरफ 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए भी माहौल बनाया जा रहा है। राजनीतिक मैदान में तो कांग्रेस और भाजपा आमने सामने हैं ही लेकिन इसके साथ दोनों पार्टियां सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर भी एक दूसरे को कड़ी टक्कर देते हुए नज़र आ रही है।

ट्विटर पर छिड़ी भाजपा और कांग्रेस के बीच जंग

राजनीतिक मैदान की लड़ाई कांग्रेस और बीजेपी की अब ट्विटर पर भी पहुंच गई है। कई अहम मुद्दों पर दोनों पार्टियां एक-दूसरे पर निशाना साधती हुई नजर आ रही है। कांग्रेस ने ट्विटर पर बीजेपी के ख़िलाफ #BIkGayaChowkidar नाम के हैशटैग को चलाया हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी ने भी ट्विटर के जरिए #RaGaFailonRafale का हैश टैग चलाकर कांग्रेस पर राफेल मुद्दे को लेकर हमला किया है। कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ चुनाव को जीतने के लिए ट्विटर पर ‘बढ़तेचलोअम्बिकापुर’ नाम का हैशटैग चला रखा है। ट्विटर पर जारी कांग्रेस और बीजेपी की लड़ाई ने यह साफ कर दिया है कि अब भारतीय राजनीति में लड़ाई केवल राजनीतिक चुनावी रैलियों तक ही नहीं लड़ी जाएगी बल्कि यह अब सोशल मीडिया पर भी देखने को मिलेगा।

ट्विटर की लड़ाई में गायब होते आम जनता के मुद्दे

जिस तरह से राजनीतिक पार्टियां अपने मुद्दों के लिए ट्विटर पर जंग छेड़ रही हैं उससे साफ जाहिर है कि पार्टियां चुनाव परिणाम अपने हक में लाने के लिए हर हथकंडे अपनाने को तैयार हैं। लेकिन एक आम आदमी के नजरिये से यह सवाल उठता है कि क्या ट्विटर के जरिए अब लोगों के आम मुद्दे जिसमें बिजली, पानी, स्वास्थय, रोजगार जैसे मामले हैं क्या उन पर भी गौर किया जाएगा या फिर कांग्रेस और बीजेपी के बीच ट्विटर की लड़ाई में एक आम आदमी के जरुरी मुद्दे कहीं गायब हो जाएंगे।

क्या यह भारतीय राजनीति के बदलाव का दौर है ?

भारत वैसे तो कई चीजों के लिए पूरे विश्व में अपनी पहचान रखता है लेकिन किसी एक चीज की बात की जाए तो वह है भारतीय लोकतंत्र और यहां कहा की राजनीति। भारत 1947 में आज़ादी के बाद से ही एक लोकतांत्रिक देश बन गया था। तब से लेकर आज तक भारतीय राजनीति का असल रुप चुनावों के दौरान देखने को मिलता है। लेकिन समय के साथ अब भारतीय की राजनीति ने भी करवट बदलनी शुरु कर दी है। राजनीतिक मैदान को छोड़कर राजनेता अब सोशल मीडिया पर भी अपनी पार्टी और सियासत को चमकाने के लिए आय दिन कुछ न कुछ बयानबाजी करते हुए नजर आते हैं।