हमेशा सोच-समझकर ही बोलती हूँ : साध्वी प्रज्ञा

0

भारतीय जनता पार्टी की भोपाल से प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भाजपा में जाइनिंग के बाद से ही विवादो में घिरी हुई हैं. पहले वो मुंबई धमाकों में शहीद हुए हेमंत करकरे पर विवादित बयान दे कर खुद को सुर्ख़ियों में ला दिया, फिर उन्होंने अपनी टिप्पड़ी वापस ले ली. अब उनका बयान आया है कि वे हमेशा सोच-समझकर बोलती हैं और कभी भी अनर्गल बातें नही बोलती हैं.

उन्होंने 1984 में हुए दंगो को लेकर वर्तमान में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ‘कमलनाथ’ पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि 1984 में जो दंगे हुए थे वो दंगा नही हत्याकांड था. दंगे में जो शामिल थे वो आज मुख्यमंत्री बने बैठे हैं. आप साध्वी के अंत के बारे में बात नही करें. साध्वी के आदि और अंत के बारे में न सोचे.

इसके अलावा उन्होंने उमा भारती के विकल्प होने के होने के सवाल पर कहा कि, “वो मेरी दीदी हैं, वह मेरी ऊँगली पकड़ कर मुझे चलाती हैं. टिकट मिलने पर उन्होंने कहा था कि आज का दिन बेहद अहम है. मैं वो दिन हमेशा याद रखूंगी.

इसके अलावा जब उनसे ये सवाल पूछा गया कि पहले विवादित बयान दिया. फिर कहा कि हमेशा सोच-समझकर बयान देती हूँ, तो उन्होंने कहा कि, “मैं हमेशा सच बोलती हूँ. जो बयान देती हूँ वो सच होता है. मैं कभी भी अनर्गल बयान नही देती हूँ.

आपको बताते चलें कि भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से अपना उम्मीदवार बनाया है, जो कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ेंगी. अब देखना होगा साध्वी प्रज्ञा, दिग्विजय सिंह को कितनी टक्कर दे पाती हैं.