पाक अधिकारी ने अरुंधति रॉय, ममता बनर्जी, कांग्रेस और कम्युनिस्ट पार्टियों के बारें में किया खुलासा, वीडियो देखें

0
https://news4social.com/?p=54896

भारत सरकार ने पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर अलग-थलग कर दिया है, पाकिस्तान अब धारा 370 को खत्म करने की प्रतिक्रिया के रूप में कश्मीर को अस्थिर करने के लिए कुछ भारतीय राजनीतिक वर्ग और बुद्धिजीवियों से समर्थन की उम्मीद कर रहा है।

www.opindia.com पर छपी ख़बर के अनुसार पाकिस्तानी राजनेता, पत्रकार और भू-रणनीतिकार मुशाहिद हुसैन पाकिस्तानी न्यूज चैनल जियो टीवी पर एक बहस में उन्होंने खुलासा किया कि लेखिका अरुंधति रॉय, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी और कांग्रेस जैसे राजनीतिक दल पाकिस्तान के “हमदर्द” हैं, ये सभी पाकिस्तान की हिमायत करते हैं।

लगभग 17 मिनट 40 सेकंड के वीडियो में, समाचार एंकर ने पूछा कि कश्मीर में उन लोगों की समस्याएं कैसे समाप्त होंगी, हुसैन ने कहा कि भारत एक बड़ा राष्ट्र है और हर कोई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन नहीं करता है।

हुसैन ने कहा “हमें इस [कश्मीर] मुद्दे पर गंभीर और निरंतर तरीके से संपर्क करना होगा। और यह एक लंबी लड़ाई है। भारत एक बहुत बड़ा देश है। और भारत के कई लोग जैसे अरुंधति रॉय, ममता बनर्जी, कांग्रेस पार्टी, कम्युनिस्ट पार्टी, दलित पार्टियों के लोग पाकिस्तान से सहानभूति रखते हैं। सारा भारत मोदी के साथ नहीं है।”

अनुच्छेद 370 को हटाने के लिए भारत के ऐतिहासिक कदम के बाद पाकिस्तानी आलाकमान ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है। इससे पहले, पाकिस्तान के एक ‘बुद्धिजीवी’ ने धारा 370 के उन्मूलन के बाद कश्मीर में हिंदुओं के खिलाफ नरसंहार का समर्थन किया था। एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें स्व-घोषित पाकिस्तानी बौद्धिक तारिक पीरजादा कश्मीर के मुसलमानों को हिंदुओं के खिलाफ नरसंहार का सहारा लेने के लिए उकसाते हुए देखे जा सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि भारतीयों ने फिलिस्तीन पर यहूदियों के कब्जे की तरह ही अवैध रूप से ‘कश्मीर’ पर कब्जा कर लिया है।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की चीन में हुई फजीहत

आपको बता दें कि इससे पहले शोभा डे को लेकर एक पाकिस्तानी अधिकारी ने खुलासा किया था कि वह शोभा डे को कश्मीर के बारें में और भारत के खिलाफ लिखने के लिए पैसे देता है।

भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को निरस्त करने का निर्णय लेने के बाद बड़ी संख्या में पाकिस्तानियों ने नफरत-भड़काने का सहारा लिया और अपनी नरसंहार की प्रवृत्ति को सोशल मीडिया पर उजागर किया।

input from opindia.com