स्टार्टअप के लिए भटक रहे हैं युवा!

0
स्टार्टअप के लिए भटक रहे हैं युवा!
स्टार्टअप के लिए भटक रहे हैं युवा!

पीएम मोदी द्वारा चलाए गये स्टार्टअप की बहार लगभग हर राज्य मॆं देखने को मिल रही है। ज्यादा से ज्याद युवा इससे जुड़ना चाहते हैं, लेकिन उनके सामने ढेर सारी समस्याएं पैदा हो रही है, जिसका समाधान सरकारी अधिकरी भी नहीं दे पा रहे है। हालांकि अंधिकाश राज्यों में ही युवाओं को इस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पीएम मोदी द्वारा स्टार्टअप की बात करने के बाद से ही राज्य सरकारें इश पर जोर देने लगी है, लेकिन यहाँ सवाल यह खड़ा होता है कि आखिर इतने प्लान के बावजूद भी, क्यों परेशानियां आ रही है। ऐसा ही एक मामला मध्यप्रदेश आया है।

आपको बता दें कि एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में बड़ी उम्मीदों के साथ जोर-शोर से स्टार्टअप योजना की शुरुआत की थी, लेकिन आज एमपी का युवा स्टार्टअप के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा है। खबर के मुताबिक, सरकारी पेचीदगियों से समय पर फंड नहीं मिलने से उत्साह से भरपूर युवा अपने स्टार्टअप का विचार बदलकर निजी निवेशकों से जुड़ रहे हैं।

नहीं मिल पर रहा है समाधान…

स्टार्टअप के तहत आने वाली समस्याओं से जुड़ी हुई खबर से आपको रूबरू कराने जा रहे है। आपको बता दें कि एमपी की राजधानी भोपाल का निवासी 23 साल के अलमास अली ने पिछले वर्ष फाइनेंस सेक्टर में स्टार्टअप के लिए मन बनाया। जिसके बाद कारोबार शुरु करने के लिए सरकारी दफ्तरों में दस्तक दी, लेकिन सरकारी पेचीदगी और विभागीय अफसरों का सहयोग नहीं मिलने से महीनों बीत गए। जिसके बाद उसका हौसला टूट गया, और उसने मिनी लोन लेकर कारोबार को शुरू कर दिया। ऐसे ही एक और युवा है, जिसे स्टार्टअप शुरू करने में परेशानियों का सामना करना पड़ा। दूसरे युवा रजत यादव को भी स्टार्टअप शुरु करने के लिए परेशानी उठानी पड़ी। इसी तरह अनेको युवा है, जिसे स्टार्ट के तहत काम शुरू करने में काफी दिक्कते आ रही है।


नहीं मिल पा रहा है फंड…

आपको बता दें कि एमपी में युवाओं को स्टार्टअप के तहत मिलने वाला फंड नहीं मिल पा रहा है। सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाते-लगाते उनक हौंसलें टूट जाते है और फिर वो किसी और रूप में अपना काम शुरू कर लेते है। इससे स्टार्टअप को बुहत बड़ा नुकसान हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12 + nineteen =