दिल्ली चुनाव: CM पद का फेस घोषित कर दूसरे समुदाय को नाराज नहीं करना चहती BJP

cm
दिल्ली चुनाव: CM पद का फेस घोषित कर दूसरे समुदाय को नाराज नहीं करना चहती BJP

दिल्ली की सत्ता में बीजेपी इस बार के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के समाने अपना सीएम उतारेगी या नहीं इस पर सबकी निगाहें बनी हुई है. खबरों के मुताबिक बताय जा रहा है कि चुनाव के ऐलान के साथ किए अपने ट्वीट में अब अमित शाह ने पीएम मोदी के नेतृत्व में चुनाव लड़ने का संकेत दिया है.

अब सवाल ये उठ रहा है कि क्या बीजेपी पिछली बार की तरह इसी बार भी सीएम कैंडिडेट घोषित नहीं करेगी. दिल्ली की सियासत में पूर्वांचली-पंजाबी और जाट समुदाय एक समय में बीजेपी के लिए मजबूत वोट बैंक माना जाता रहा है. इस बीच अब बीजेपी किसी एक समुदाय के किसी नेता को सीएम पद का फेस घोषित कर दूसरे समुदाय को नाराज करने का जोखिम भरा कदम नहीं उठाना चाहती है.

दिल्ली में लगभग 25 फीसदी से ज्यादा मतदाता पूर्वांचली हैं. दिल्ली की किराड़ी, बुराड़ी, उत्तम नगर, संगम विहार, बादली, गोकलपुर, जनकपुरी, मटियाला, द्वारका, नांगलोई, करावल नगर, विकासपुरी, सीमापुरी जैसी विधानसभा सीटों पर पूर्वांचली मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं. दिल्ली में पूर्वांचली मतदाताओं को बीजेपी ने अपने साथ जोड़े रखने के लिए मनोज तिवारी को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी है. तिवारी बीजेपी में पूर्वांचली चेहरा माने जाते हैं.

वहीं, दिल्ली में करीब 35 फीसदी आबादी पंजाबी समुदाय की है. इनमें 10 फीसदी से ज्यादा पंजाबी खत्री और 8 फीसदी आबादी जाटों और 12 फीसदी वैश्य समुदाय हैं. दिल्ली की विकासपुरी, राजौरी गार्डन, हरी नगर, तिलक नगर, जनकपुरी, मोती नगर,राजेंद्र नगर, ग्रेटर कैलाश, जंगपुरा, गांधी नगर, मॉडल टाऊन, लक्ष्मी नगर और रोहिणी विधानसभा सीट पर पंजाबी समुदाय जीत हार तय करते हैं.

यह भी पढ़ें : लोकसभा-MCD चुनाव में पलटी थी बाजी, नामुमकिन नहीं है दिल्ली से झाड़ू का सफाया करना

बता दें कि बीजेपी दिल्ली की सियासी समीकरण और क्षेत्रीय संतुलन को बनाए रखना चाहती है. ऐसे में वो किसी एक चेहरे को आगे कर दूसरे समुदाय को नाराज नहीं करना चाहती है. ऐसे में वो किसी एक चेहरे को आगे कर दूसरे समुदाय को नाराज नहीं करना चाहती है. इसीलिए बीजेपी दिल्ली में केजरीवाल के खिलाफ सीएम फेस को लेकर कशमकश में है. ऐसे में बीजेपी किसी चेहरे की बजाय सामूहिक नेतृत्व में चुनावी किस्मत आजमाना चाहती है. फिलहाल यह एक बड़ा सवाल है कि चुनाव में बीजेपी की तरफ से कौन सीएम कैंडिडेट कौन होगा.