‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ पर पर्यटकों को हो रही है यह परेशानी, लगायी गुहार

0
statue of unity
https://news4social.com/?p=55386

किसी भी पर्यटन स्थल की लोकप्रियता का अंदाजा पर्यटकों के आने से लगाया जा सकता है। इस हिसाब से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी निश्चित रूप से पर्यटकों के बीच हिट साबित हुआ है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर अब भीड़ इतनी ज्यादा हो जाती है कि कभी कभी इसे संभालना भी मुश्किल हो जाता है।

पिछले रविवार को काफी भीड़ देखी गयी। बारिश के मौसम की वजह से लोगो को वहाँ से जल्दी निकलने के लिए कहा गया। इससे कई लोग गैलेरी में जाकर स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का दीदार नहीं कर पाए। रविवार को लगभग 25,000 स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने आये थे।

पिछले कुछ दिनों की भारी बारिश के कारण सरदार सरोवर बांध भर गया है। बांध को देखने, बहती हुई नर्मदा और दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा की देखने वाली गैलरी से चारों ओर की प्राकृतिक सुंदरता रविवार को हजारों लोगों को अपनी ओर खींच लायी। लेकिन वे निराशा थे। लंबी कतारों के कारण टिकट खिड़की बंद करनी पड़ी। जिन लोगों ने एडवांस में ऑनलाइन टिकट बुक किया था, वे व्यूइंग गैलरी में जा सकते हैं। बाकी, जो अंतिम क्षणों की योजना बनाने के बाद वहां पहुंचे थे, उन्हें प्रदर्शनी क्षेत्र का दौरा करने के बाद वापस लौटना पड़ा था। वे व्यूइंग गैलरी में नहीं जा सके।

इस तरह से निराश एक पर्यटक रितेश पटेल ने कहा, “मैं अपने परिवार के साथ स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने गया था। हमने वहाँ पहुँचने के लिए एक कार किराए पर ली थी। लेकिन भारी भीड़ के कारण, हम देखने वाली गैलरी में नहीं जा सके। हम प्रदर्शनी क्षेत्र से ही लौटें।

उन्होंने कहा, “मूर्ति के पास इतनी बड़ी भीड़ को पूरा करने के लिए केवल दो लिफ्ट हैं। अधिकारियों को गैलरी देखने के लिए बड़े क्षेत्र की योजना बनानी चाहिए और अधिक लिफ्ट भी।”

यह भी पढ़ें: जनसंख्या नियंत्रण के मुद्दे पर सपा सांसद ने मोदी सरकार का किया समर्थन, कहा- तीन बच्चों…

व्यूइंग गैलरी 182 मीटर ऊंची प्रतिमा में 153 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। सूत्रों के अनुसार, अधिकारियों ने व्यूइंग गैलरी में प्रति दिन केवल 10,000 पर्यटकों के लिए प्रवेश की व्यवस्था की है। छुट्टियों के दौरान और वीकेंड में जब लोगो की भीड़ बढ़ती है तो इसमें जाने के लिए लम्बी लम्बी लाइने लगती है।

31 अक्टूबर 2018 को 3,000 करोड़ रुपये में बनी ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था।