बिहार में प्रिंसिपल, टीचर्स और 15 छात्रों द्वारा सात महीने तक हैवानियत का शिकार बनी 13 साल की छात्रा

210

बिहार: क्यों आज के युग में मासूम बच्ची, लड़की और एक औरत को ही हमेशा लोग अपनी हैवानियत का शिकार बनाते है. जहां एक तरफ सभी लोग टीचर्स को अपना आदर्श मानते है और स्कूल को विद्या का मंदिर कहते है, वहीं एक ऐसी घटना हुई है जिसने स्थानीय लोगों समेत सभी को हैरान कर दिया है. जी हां, एक बार फिर से बिहार शहर के छपरा जिले में प्रिंसिपल, टीचर्स और छात्राओं ने एक किशोरी के साथ कथित तौर पर मासूम के साथ सात महीने तक दुष्कर्म जैसी वारदात को अंजाम दिया है.

बता दें कि बिहार के छपरा जिले में एक छात्रा के साथ गैंगरेप व ब्लैकमेल करने का मामला दर्ज किया गया है. इस पर विद्यालय के प्रिंसिपल समेत 2 और शिक्षक और 15 छात्र पर गैंगरेप और ब्लैकमेलिंग का आरोप लगा है. किशोरी की शिकायत के बाद शुक्रवार को प्रिंसिपल, एक टीचर और दो छात्रों को हिरासत में ले लिया गया. उपरोक्त जानकारी के बारे में सारण एसपी ने दी है.

Girl raped -

किशोरी का बयान

किशोरी ने आरोप लगाया है कि उसके साथ स्कूल के प्रिंसिपल, शिक्षक तथा छात्रों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म और ब्लैकमेलिंग की गई है. अपनी शिकायत में नाबालिग ने 18 आरोपियों के नाम भी दर्ज कराए है. छात्रा के साथ पहली बार रेप दिसंबर 2017 में किया गया था. क्लास के छात्र ने उसके साथ दुष्कर्म किया. उसके बाद उसी के ब्लैकमेलिंग के दौरान चार-पांच युवकों के अलावा दो शिक्षकों और प्रिंसिपल ने भी छात्रा का यौन शोषण किया.

यह भी पढ़ें: बिहार- घर में घुसकर तीन बहनों के साथ बदमाशों ने की बेशर्मी की सारी हदें पार, सुनकर चौंक जाएंगे आप

पिछले सात महीनों से दुष्कर्म किया जा रहा है

पीड़िता ने आगे बताया कि यह सिलसिला पिछले सात महीनों से चल रही है. इसके बाद उसने अपने पिता के जेल से रिहा होने के बाद शुक्रवार को छपरा के परसागढ़ के एकमा पुलिस स्टेशन जाकर इस मामले को लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई. आनन-फानन में महिला पुलिस को अपना बयान दर्ज करवाया. बहरहाल, इसके बाद उसे मेडिकल जांच के लिए अस्पताल ले जाया गया. मामले की गंभीरता को देखते हुए सिविल सर्जन ने मेडिकल बोर्ड का गठन कर पीड़िता की जांच कराई है.

गौरतलब है कि पुलिस ने फिलहाल कुछ आरोपियों को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है. अभी अन्य आरोपियों की तलाश में पुलिस जुटी हुई है. इस घटना के बाद स्थानीय लोगों में स्कूल प्रशासन को लेकर काफी गुस्सा है. वहीं लोग स्कूल बंद करने की मांग भी करने में अड़े हुए है. पुलिस का कहना है कि दोष साबित होने के बाद आरोपियों पर सख्त तरीके से कार्यवाही भी की जाएगी.

यह भी पढ़ें: रेप पीड़िता के साथ आरजेडी नेताओं की शर्मनाक हरकत, जबरन तस्वीर लेने के मामले में हुई एफआईआर