बांदा- इस दिवाली बुंदेलखंड के लोगों को मिलेगी नई सौगात, जल्द चित्रकूटधाम पर दौड़ेगी इलेक्ट्रिक ट्रेन

0

बांदा: इस साल की दिवाली बुंदेलखंड के यात्रियों को सौगात लेकर आई है. खैरार से झांसी और खैरार से कानपूर तक के रेल ट्रैक का विधुतीकरण का कार्य पूरा हो चुका है. ये ही नहीं इस महीने के अंत तक इस रूट पर इलेक्ट्रिक ट्रेन दौड़ने भी लगेगी.

चित्रकूटधाम मंडल के लिए काफी बड़ी उपलब्धि मानी जा रहीं है 

बता दें कि इससे जहां एक तरफ ट्रेनों की रफ्तार बढ़ जाएगी, वहीं कम समय में यात्री अपना सफर पूरा कर पाएंगे. वहीं ये चित्रकूटधाम मंडल के लिए काफी बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है. चित्रकूटधाम मंडल में दोहरी रेल लाइन और विधुतीकरण की मांग काफी लंबे अरसे से की जा रहीं है. हालांकि रेलवे विभाग द्वारा दोनों ही मांगों को स्वीकार किया गया और कार्य समय पर पूरा भी कर दिया है. पहले चरण में कुछ रेलवे स्टेशन इन दोनों ही सुविधाओं से अछूते है.

साल 2022-23 तक यह काम पूरे मंडल में पूरा हो जाएगा

रेलवे विभाग ने दावा किया है कि साल 2022-23 तक यह काम पूरे मंडल में पूरा हो जाएगा. आपको बता दें कि इस परियोजना को बनने में 43 अरब 29 करोड़ 53 लाख रूपये की लागत लगी है. ये ही नहीं वर्तमान साल 2018-19 के लिए रेलवे ने अब तक एक अरब आवंटित भी कर दिया है. सूचना का अधिकार अधिनियम के अनुसार आरटीआई कार्यकर्ता कुलदीप शुक्ला से मांगी गई सूचना में रेलवे विधुतीकरण कार्यालय लखनऊ के उप मुख्य आरके द्विवेदी ने कहा है कि झांसी, बांदा-मानिकपुर और कानपूर-बांदा खंड में  विधुतीकरण कटी तेजी से चल रहा है.

यह भी पढ़ें: बांदा- नीली क्रांति योजना के तहत बुंदेलखंड में सात नई हेचरी बनाई जाएगी

उन्होंने आगे बताया है कि झांसी, हरपालपुर-खैरार तथा कानपूर-खैरार का विधुतीकरण कार्य करीब पूरा हो चुका है. इस रेलवे पर 30 नवंबर से इलेक्ट्रिक ट्रेन का संचालन पूरी होने की पर्याप्त संभावना है. बताया कि फिलहाल खैरार से झांसी और खैरार से कानपूर तक इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाई जाएगी.