CAA के विरोध में भारत बंद , दिल्ली के बाद बेंगलुरु-चेन्नई-मुंबई तक पहुंचा प्रदर्शन

0
CAA
CAA के विरोध में भारत बंद , दिल्ली के बाद बेंगलुरु-चेन्नई-मुंबई तक पहुंचा प्रदर्शन

देश में नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ हल्ला बोल दिया है। दिल्ली से असम तक यह प्रदर्शन अब बेंगलुरु, हैदराबाद और मुंबई तक पहुंच गया है। प्रदर्शनकारी CAA के खिलाफ सडकों पर उतर आये है। नौबत यहाँ तक आगई कि दिल्ली के कुछ इलाकों में प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया था जिसमे पुलिसकर्मी और छात्र के बीच झड़प में बहुत से स्टूडेंट्स और पुलिसकर्मी गंभीर रूप से जख्मी हुए।


आज लेफ्ट पार्टियों ने भारत बंद कि घोषणा कर दी है। देश में इस एक्ट के आने से पहले ही बहुत बड़े लेवल पर विरोध हो रहा था इस एक्ट को मुस्लिम विरोधी और विभिंन राज्ये के कल्चर को प्रभवित करना बताया जा रहा है।केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए इस एक्ट के विरोध में आज किस तरह हल्ला बोल हो रहा है।


उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू हो गई है। बिना इजाजत कोई भी रैली, धरना, प्रदर्शन, रोड शो करने का अधिकार नहीं होगा। हैदराबाद में भी अलर्ट जारी किया गया है। किसी भी तरह प्रदर्शन , रैली और रोड शो करने की इज़ाज़त नहीं दी गई है। अगर इसका उल्लंघन किया गया तो उसपर सख्त कार्रवाई के तहत उचित कदम उठाया जाएगा।


कर्नाटक के बेंगलुरु में आज कई संगठनों ने CAA के खिलाफ मार्च निकालने की बात कही है, इसके मद्देनजर धारा 144 लगाई गई है. राज्य के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने बड़े अधिकारियों के साथ बैठक की और सुरक्षा का जायजा लिया, मुंबई के अगस्त क्रांति मैदान में आज भी CAA के विरोध में बॉलीवुड के बहुत से एक्टर्स जैसे स्वरा भास्कर, कुणाल कामरा, फरहान अख्तर जैसे बड़े नाम शामिल होने की संभावना है।


खबर के अनुसार भारत बंद का आंदोलन , लेफ्ट पार्टियों का मार्च दिल्ली के मंडी हाउस से शुरू होगा जोकि शहीद पार्क तक जारी रहेगा. इसके अलावा दूसरा प्रोटेस्ट 11 बजे से लालकिले से शुरू होकर शहीद पार्क तक चलेगा लेकिन धारा 144 लागू होने के बाद भारत बंद का आयोजन कैंसिल होने की भी संभाना है।

यह भी पढ़ें : नागरिकता संशोधन एक्ट को लेकर ममता ने शाह पर किया हमला

स्वराज इंडिया समेत कुल 60 संगठन आज लालकिले से अपने प्रदर्शन की शुरुआत करेंगे. हालांकि, दिल्ली पुलिस ने इस प्रदर्शन की इजाजत नहीं दी है, का के खिलाफ चेन्नई में भी प्रदर्शन के लिए इजाजत मांगी गई थी जिसे प्रशासन ने सरासर नकार दिया। आदेश का उल्घन करने पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी।