गोयल से ‘बेहतर और अच्छे’ रेलमंत्री थे प्रभु!

0
गोयल से ‘बेहतर और अच्छे’ रेलमंत्री थे प्रभु!
गोयल से ‘बेहतर और अच्छे’ रेलमंत्री थे प्रभु!

मोदी सरकार के तीसरे मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल में पूर्व रेलमंत्री सुरेश प्रभु को रेल मंत्रालय से हाथ धूलना पड़ा था, जिसके बाद बतौर रेलमंत्री पीयूष गोयल की नियुक्ति हुई। प्रभु से रेल मंत्रालय छीनने के पीछे की वजह लगातार हो रही रेल हादसों को माना जा रहा है। गोयल के प्रबंधन से एक यात्री इतना गुस्सा हो गया कि उसने ट्वीटर पर ये तक लिख डाला कि आपसे अच्छे तो प्रभु थे। आइये खबर पर एक नजर डालते है….

आपको बता दें कि सुरेश प्रभु के रेलमंत्री बनने के बाद से ही एक प्रथा चल रही है, वो ये है कि ट्वीटर से यात्रियों की समस्याओं का समाधान किया जाने लगा है। खबर के मुताबिक, जयपुर-मैसूर सुपरफास्ट एक्सप्रेस में सफर कर रही एक महिला के पति ने मदद के लिए रेलमंत्री  को 45 बार ट्वीट किया, लेकिन  उसे मदद नहीं मिली।

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले मंत्रालयों में से रेलवे मंत्रालय अग्रणी है, लेकिन ऐसे न जाने कितने रेल यात्रियों की शिकायत को नजरअंदाज करता आ रहा है रेलमंत्रालय।

 

क्या है पूरा मामला….

आपको बता दें कि मामला महाराष्ट्र के नागपुर का है। जहाँ एक यात्री को कोच एस 4 में 63 नंबर बर्थ आरएसी में मिली थी, लेकिन उन्हें इस सीट पर कुछ यात्री बैठने नहीं दे रहे थे, जिसकी शिकायत यात्री ने ट्विटर पर की, लेकिन रेलमंत्रालय सोता नजर आया। हालांकि, 6 घंटे और 45 ट्वीट के बाद रेल मंत्रालय की तरफ से जवाब आया।

आप से बेहतर तो प्रभु थे…

आपको बता दें कि जब यात्री को गुस्सा आया तो उसने पीयूष गोयल को ट्वीट करके कहा कि आप से बेहतर तो प्रभु थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nine − six =