सुषमा स्वराज के चुनाव न लड़ने के फैसले को कांग्रेस ने बताया कायरता

0

नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बीते दिन अचानक से आगामी लोकसभा चुनाव न लड़ने का फैसला कर सभी को हैरान कर दिया है. उनके इस फैसले से सभी पार्टी के नेता हैरान रह गए.

मध्य प्रदेश में भाजपा की हालत खराब देख सुषमा ने मैदान छोड़ दिया है-  पी चिदंबरम

वहीं जैसे ही सुषमा ने लोकसभा चुनाव न लड़ने का फैसला किया तो इसको लेकर तमाम नेताओं ने बयानबाजी करना शुरू कर दिया. कांग्रेसी नेता पी चिदंबरम ने सुषमा के इस फैसले पर सियासी बयान दे दिया है. पी चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा है कि मध्य प्रदेश में भाजपा की हालत खराब देख सुषमा ने मैदान छोड़ दिया है. इस पर उन्होंने सुषमा पर हमला करते हुए कहा कि सुषमा स्मार्ट है.

आगामी चुनाव न लड़ने पर कांग्रेस के दिग्गज नेता शशि थरूर ने निराशा व्यक्त की 

दूसरी तरफ सुषमा के साल 2019 के चुनाव न लड़ने के फैसले पर कांग्रेस के दिग्गज नेता शशि थरूर ने निराशा व्यक्त की है और कहा है कि संसद में विदेश मंत्री के रूप में मैंने उन्हें हमेशा उदार पाया है. बहरहाल, मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सुषमा ने सोमवार को कहा है कि वह साल 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहती है. लेकिन अगर पार्टी इस पर विचार करेगी तो वह इस पर विचार करेगी.

सुषमा के चुनाव न लड़ने की अहम वजह उनकी बीमारी है. सुषमा का लोकसभा चुनाव न लड़ने का फैसला अप्रत्याशित था. फैसले से सवाल ये उठने लगे कि वो सेहत से परेशान है या भाजपा की अंदरूनी सियासत है. अब ऐसे में काफी सवाल खड़े हो रहें है कि इतनी बड़ी दिग्गज नेता को चुनाव न लड़ने का क्या कारण हो सकता है. इस ऐलान से पहले उन्होंने न पार्टी से पूछा और न ही पार्टी को इसकी हवा थी.

66 साल की सुषमा स्वराज पार्टी की बेहद तजुर्बेकार नेता है

बता दें कि 66 साल की सुषमा स्वराज पार्टी की बेहद तजुर्बेकार नेता है. अचानक चुनाव न लड़ना काफी हैरान करने जैसा साबित हो रहा है. अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या भाजपा को उनके तजुर्बे की जरूरत नहीं रह गई है.