शबनम मौसी के बाद अब मध्यप्रदेश में छह किन्नर चुनावी मैदान में ठोक रहे है ताल

0

भोपाल: मध्य प्रदेश में चुनावी बिसात बिछती दिखाई दें रहीं है. इस कड़ी में अब किन्नर भी चुनावी मैदान में उतरने वाले है.

बता दें कि शबनम मौसी के रूप में साल 2000 में देश को पहली किन्नर विधायक मिली. इस बार फिर राज्य में चुनावी गर्मागर्मी का माहौल बना हुआ है इस दौरान शबनम मौसी सहित विभिन्न सीटों से कुल छह किन्नर उम्मीदवार अपना चुनावी भाग्य अजमाने जा रहीं है.

चुनाव में कुल 2907 उम्मीदवार मैदान में नजर आने वाले है

जानकारी के मुताबिक, राज्य की 230 विधानसभा सीटों पर 28 नवंबर को सभी नेताओं का फैसला जनता तय करेगी. इस बार चुनाव में कुल 2907 उम्मीदवार मैदान में नजर आने वाले है. इनमें से छह किन्नर भी शामिल है. जिसमें अनूपपुर जिले की कोतमा सीट से पूर्व विधायक शबनम मौसी उर्फ शबनम कोल, मुरैना जिले की अंबाह सीट से नेहा किन्नर, दमोह जिले की दमोह सीट से रिहाना सब्बो बुआ, शहडोल जिले की जयसिंह नगर सीट से सुन्दर सिंह ऊर्फ सल्लू मौसी, होशंगाबाद जिले की होशंगाबाद सीट से पांची देशमुख एवं इन्दौर जिले की इन्दौर-2 सीट से बाला वैश्वरा (28) अपनी किस्मत आजमा रही हैं.

शबनम मौसी 14 से अधिक भारतीय भाषाओँ की जानकारी 

बता दें कि देश की पहली किन्नर विधायक शबनम मौसी मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले के सोहागपुर निर्वाचन क्षेत्र से वर्ष 2000 के उपचुनाव में निर्दलीय चुनी गई थीं. उनको 14 से अधिक भारतीय भाषाओँ की जानकारी है, उन्होंने 44.08 प्रतिशत मत लेकर भाजपा के उम्मीदवार को 17,863 मतों से मात दी थी.

पांची देशमुख अखिल भारत हिंदू महासभा की टिकट पर चुनाव लड़ने जा रहें हैं. वहीं अन्य पांचों किन्नर निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनावी रण में उतरेंगी. लेकिन इस बार शबनम का अमाना-सामना भाजपा के पूर्व विधायक दिलीप कुमार जायसवाल एवं कांग्रेस के सुनील कुमार से है. दूसरी तरफ पांची देशमुख भी इस चुनावी राजनीती का पुराना नाम है, और उन्होंने साल 2003 में होशंगाबाद सीट से विधानसभा चुनाव लड़ा था.